Showing posts with label व्यंजन रेसिपी. Show all posts
Showing posts with label व्यंजन रेसिपी. Show all posts

टमाटर की कढ़ी - पोषण तत्त्वों से भरी



टमाटर को बेसन के साथ मिलाकर बहोत ही ख़ास और खट्टी टमाटर की कढ़ी चावल, चपाती या रोटी के साथ खा सकते है.ये सिर्फ स्वादिष्ट ही नहीं बल्कि पौष्टिक भी होती है.
तो तैयार हो जाइये जानने के लिए की कैसे आप काफी कम समय में बना सकते है टमाटर की कढ़ी !


टमाटर की कढ़ी बनाने के लिये आवश्यक सामग्री:-
( निचे दी गयी सामग्री ३-५ लोगों के लिए पर्याप्त है )
टमाटर - ४-६ (३०० -४०० ग्राम)
तेल - २-४ चम्मच
हरा धनिया - ४-५ चम्मच (बारीक कटा हुआ)
हरी मिर्च - २-३
करी पत्ता - ८-१०
जीरा - ½ छोटी चम्मच
बेसन - ¼ कप
लाल मिर्च पाउडर - ¼ छोटी चम्मच
मेथी दाना - ¼ छोटी चम्मच
हींग - १-२ चुटकी
धनिया पाउडर - १ छोटी चम्मच
अदरक का पेस्ट - ½ छोटी चम्मच
सरसों के दाने - ¼ छोटी चम्मच
हल्दी पाउडर - ¼ छोटी चम्मच
नमक - स्वादानुसार


कढ़ी बनाने की विधि:-
सबसे पहले टमाटरों को अच्छी तरह धोनेके बाद उन्हें बड़े टुक्सोन में काट लें. उसके बाद हरी मिर्च भी धोकर उसके भी बड़े बड़े टुकड़े काट लें. इन काटे हुए टमाटरों और हरी मिर्च के टुकड़ों को मिक्सर ग्राइंडर में पीस कर पेस्ट बना लें.

अब एक फ्राइंग पैन लें और उसे गरम करने के बाद २ चम्मच तेल डालें और उसे अच्छे से गरम करें. तेल गरम हो जाने पर उसमे मेथी के दाने, हींग,जीरा और सरसों के दाने डालकर धीमी आंच पर भून लें.उसके बाद धनिया पाउडर, करी पत्ता, हल्दी पाउडर, १/२ चम्मच अदरक का पेस्ट भी डाले और उसे भून लें. अब जो हमने सबसे पहले जो टमाटर और हरी मिर्च का पेस्ट बनाया था उसको इस मिश्रण में डालिये और अच्छी तरह मिला दें.

अब बेसन लेकर उसे एक प्याले में पानी डालकर अच्छी तरह घोले ताकि उसमे कोई गुठलियां न बचे. अब इस बेसन वाले घोल को मसाले वाले मिश्रण में डालें. आवश्यक्यता होने पर थोड़ा और पानी डालकर घोलें.

अब इस सारे मिश्रण को कढ़ी में उबाल लें. इसके बाद धीमी आंच पर कढ़ी में स्वादानुसार नमक के साथ लाल मिर्च पाउडर डालें और इसे अच्छे से मिला दें. इस पुरे मिश्रण को कम से कम १०-१२ मिनट तक पकाएं. पकाते समय कढ़ी को चलाते रहें.

इस तरह टमाटर की कढी़ बनकर तैयार है!अब आप इस गरमागरम टमाटर कढ़ी को चपाती, चावल या परांठे के भी साथ खाइये.

कढी़ को और ज्यादा स्वादिष्ट बनाने के लिए हरा धनिया डालकर मिला सकते है.
पकने के बाद कढी़ को किसी बर्तन या प्याले में निकाल लें.

कच्चे केले का हलवा व्रत में खाने के लिये



कच्चे केले का हलवा व्रत में खाने के लिये फलाहार

व्रत रखने वाले बहन भाइयों के लिये एक बहुत ही स्वादिष्ट और पौष्टिक फलाहार के बारे में हम आपको बता रहे हैं । यह फलाहार व्रत में ऊर्जा भी देता है और लम्बे समय तक के लिये भूख भी नही लगने देता है । इस फलाहार का नाम है कच्चे केले का हलवा । यह खाने में जितना टेस्टी होता है बनाने मे उतना ही आसान होता है । तो आइये जानते हैं इस बहुत ही स्वादिष्ट और व्रत में सेवन करने योग्य कच्चे केले का हलवा बनाने की रेसिपी ।



कच्चे केले का हलवा बनाने के लिये जरूरी सामान :-
.
1 :- कच्चे केले कुल तीन
2 :- चीनी 150 ग्राम
3 :- देशी घी 100 ग्राम
4 :- दूध 300 ग्राम
5 :- काजू 12-15
6 :- बादाम 12-15
7 :- किशमिश 25-30
8 :- छोटी इलायची का पाउडर आधा चम्मच



कच्चे केले का हलवा बनाने का तरीका :-

सबसे पहले कच्चे केले को दोनों तरफ से डंठल हटाकर कूकर में रखकर 2 कप पानी में एक सीटी आने तक उबालना है । ध्यान रखें की कच्चे केलों को छिलके के समेत ही उबालना है । काजू और बादाम को बारीक काट लें । किशमिश के भी डंठल तोड़कर फेंक दीजिये ।

कूकर में उबाले गये केलों के ठण्डा होने पर उनके छिलके को उतार कर फेंक दीजिये और अंदर के उबले फल को छोटे छोटे टुकड़ों में काटकर मैश कर लीजिये । एक नॉन स्टिक पैन में 4-5 चम्मच देशी घी डालकर गर्म करें और फिर इसमे मैश किये गये केले डालकर धीमी आँच पर लगातार चलाते हुये भूनें । भूनते भूनते जब केले का रंग बदलने लगे और केले में से घी छूटने लगे तो केले के मिश्रण में दूध और चीनी डालकर अच्छे से चलायें । इस मिश्रण को उबाल आने तक पकाते रहिये । जब उबाल आ जये तो इसमें कटे हुये काजू और बादाम के टुकड़े और किशमिश मिला दें । अब इस हलवे को तब तक पकाते रहें जब तक वो गाढ़ा ना हो जाये । जब हलवा गाढ़ा होने लगे तो इसमें छोटी इलायची का पाउडर मिलाकर अच्छी तरह से घोट दें । इस तरह बहुत ही स्वादिष्ट कच्चे केले का हलवा बनकर तैयार है ।

अब गैस को बंद कर दीजिये और हलवे को प्लेट में निकाल लीजिये । हलवे पर एक-दो चम्मच देशी घी ऊपर से डालें और कटे हुये काजू बादाम से सजायें । इस हलवे को गर्म भी खाया जा सकता है और थोड़ा ठण्डा भी खाया जा सकता है । फ्रीज का रखा हुया ना खायें ।

फलाहारी इडली व्रत में उत्तम आहार



फलाहारी इडली व्रत में पौष्टिक और उत्तम आहार
.
प्रायः व्रत रखने वालों के सामने यह समस्या रहती है कि व्रत का पारायण करते समय क्या खाया जाये, क्योकि अधिकतर लोगों को व्रत के लिये कोई विशेष रेसिपी की जानकारी नही होती है । इस पोस्ट में जानिये कि कैसे व्रत में सेवन के लिये विशेष फलाहारी इडली को बनाया जाये । सात्विकता से परिपूर्ण एक बहुत ही ठोस आहार जो व्रत रखने के दौरान बहुत लाभकारी होता है ।
.

फलाहारी इडली बनाने के लिये जरूरी सामग्री :-

1 :- सामक (व्रत के चावल‌) आधा कप
2 :- कुट्टू का आटा एक कप
3 :- सेंधा नमक स्वाद के अनुसार
4 :- दरदरी कुटी हुयी मूँगफली 20-30 ग्राम
5 :- अदरक और हरी मिर्च का पेस्ट एक चम्मच
6 :- पानी एक कप
7 :- दही आधा कप
8 :- नीम्बू का रस एक चम्मच
9 :- करी पत्ता 10-12
.

.
फलाहारी इडली के लिये चटनी बनाने की सामग्री :-

1 :- दही आधा कप
2 :- भुनी और छीली हुयी मूँगफली आधा कप
3 :- अदरक 10 ग्राम
4 :- हरी मिर्च 2-3
5 :- चीनी एक चम्मच
6 :- सेंधा नमक स्वाद के अनुसार
7 :- नीम्बू का रस स्वाद के अनुसार




फलाहारी इडली बनाने की विधी :-

सबसे पहले सामक चावल के आटे में कुट्टू का आटा मिलाकर उसमें दही, अदरक-हरी मिर्च का पेस्ट, सेंधा नमक, नीम्बू का रस और करी पत्ता डालकर मिलायें । धीरे धीरे पानी डालते हुये पेस्ट बनायें । यह पेस्ट इतना ही गाढ़ा होना चाहिये जितना कि पकोड़े का घोल रखा जाता है । अब पेस्ट तैयार हो जाने पर इसको दो घण्टे के लिये ढक कर रख दें । दो घण्टे बाद इडली बनायें । इडली बनाने के लिये ईडली के सांचे में थोडा सा घोल डालें और उस पर कूटी हुयी मूँगफली डालकर पुनः थोड़ा सा घोल और डालें । इसी तरह इडली के सभी सांचे भर लें और भाँप पर 10-12 मिनट तक पकायें । 10-12 मिनट में नरम और स्वादिष्ट ईडली पक कर तैयार हो जाती है ।
.
अब नम्बर आता है चटनी बनाने का । चटनी बनाने के लिये चटनी की समस्त सामग्री को एक साथ मिक्सी में डालकर चलायें । दो-तीन मिनट मिक्सी चलाने से उत्तम चटनी तैयार हो जाती है ।
चटनी को ठण्डा और इडली को गर्म परोसें ।
.
ऊपर लिखी मात्रा में सामग्री लेने से तैयार इडली दो लोगों के लिये पर्याप्त होती है । ज्यादा लोगों के लिये बनानी हो तो उसी अनुपात में सामग्री लेकर बनाया जा सकता है ।
.
फलाहारी ईडली बनाने की यह विधी आपको पसंद आयी हो तो कृपया पोस्ट को लाईक और शेयर जरूर कीजियेगा ।

पनीर मखाना कोरमा व्रत की डिश

पनीर मखाना कोरमा व्रत की स्पेशल डिश





पनीर मखाना कोरमा व्रत की स्पेशल डिश
.
कौन कहता है कि व्रत का खाना स्वादिष्ट नही हो सकता है ? ये बात सही है कि व्रत में अधिकतर उबले आलू और सामक के चावल की खिचड़ी ही बनाकर खा ली जाती है । किन्तु क्या आप जानते हैं कि व्रत में कुछ ऐसा अच्छा बनाया जा सकता है जो बहुत स्वादिष्ट भी होता है और पोषण से भरपूर भी । इस स्पेशल डिश का नाम है पनीर मखाना कोरमा । आइये जानते हैं इस डिश को बनाने की रेसीपि
.


पनीर मखाना कोरमा बनाने के लिये जरूरी सामग्री :-
.
1 :- पनीर 100 ग्राम
2 :- मखाना 1 कप
3 :- जीरा पाउडर 1 चम्मच
4 :- काली मिर्च पाउडर आधा चम्मच
5 :- धनिया पाउडर 1 चम्मच
6 :- कद्दुकस किया गया लौकी आधा कप
7 :- कद्दुकस किये गये 3 टमाटर
8 :- अदरक-हरी मिर्च का पेस्ट 1 चम्मच
9 :- इलायची पाउडर
10 :- धनिया पत्ती 1 चम्मच
11 :- सेंधा नमक स्वाद के अनुसार
12 :- कुकिंग ऑयल एक बड़ी चम्मच

.
पनीर मखाना कोरमा बनाने की विधी :-
.
इस स्वादिष्ट डिश को तैयार करने के लिये सबसे पहले फ्राइंग पैन में मखानों को सूखा ही भूनिये जब तक कि वो करारे ना हो जायें । उसके बाद पैन में थोड़ा सा तेल डालकर उसमें सबसे पहले कद्दुकस की गयी लौकी को भूनें । जब लौकी गल जाये तो उसके अंदर कद्दुकस किये गये तीन टमाटर और ऊपर लिखे सभी मसाले डालकर धीमी आँच पर भूनें जब सभी सामान का एक गाढ़ा पेस्ट तैयार हो जाये तो इसमें पनीर के टुकड़े और भुने हुये मखाने डाल दें और थोड़ा सा घोंट दें । अब इसमें 2 कप पानी और स्वाद के हिसाब से सेंधा नमक मिलाकर खदका लगवा लें । जब सब्जी तैयार हो जाये तो कटोरी में परोस कर धनिया पत्ती से सजा कर सर्व करें । व्रत में भी इतना स्वादिष्ट खाना पाकर खाने वाला आपकी तारीफ करता रह जायेगा ।

.
ध्यान रखें कि उपरोक्त लिखी मात्रा में सामान लेने से यह 2 लोगों के लिये पर्याप्त सब्जी तैयार होगी । ज्यादा लोगों के लिये बनानी हो तो उसी अनुपात में सामान बढ़ाकर लिया जा सकता है । इस डिश को तैयार होने में लगने वाला समय लगभग 25-30 मिनट है ।
.
पनीर मखाना कोरमा बनाने की यह रेसीपि आपको अच्छी लगी हो और आसान लगी हो तो कृपया लाईक और शेयर जरूर कीजियेगा ।

व्रत वाली कढ़ी

व्रत वाली कढ़ी, व्रत रखने वालों के लिये उपहार






व्रत वाली कढ़ी, व्रत रखने वालों के लिये उपहार
.
व्रत वाली कढ़ी उन लोगों को विशेष रूप से पसंद आयेगी जिनको कुछ नये स्वाद की हमेशा तलाश रहती है । इसको बनाने की रेसीपी भी बिल्कुल सरल है और स्वाद तो है ही इतना लाज़वाब की बस पूछो ही मत । इस पोस्ट में जानिये कि कैसे बनायी जाती है यह व्रत वाली कढ़ी ।
.


व्रत वाली कढ़ी बनाने के लिये जरूरी सामग्री :-
.
1 :- छोटे टुकड़ों में काटी गयी व उबाली गयी लौकी 2 कप
2 :- अदरक-हरी मिर्च का पेस्ट 2 चम्मच
3 :- अच्छे से फेंटा हुआ खट्टा दही 2 कप
4 :- सिंघाड़े अथवा कुट्टू का आटा 2 चम्मच
5 :- पानी 3 कप
6 :- लाल मिर्च पाउडर आधा चम्मच
7 :- दालचीनी पाउडर आधा चम्मच
8 :- जीरा 1 चम्मच
9 :- करी पत्ता 10
10 :- साबुत लाल मिर्च 2
11 :- सेंधा नमक स्वाद के अनुसार
12 :- तेल 1 चम्मच
13 :- हरा धनिया पत्ती 2 चम्मच
.
व्रत वाली कढ़ी बनाने की विधी :-
.
इस स्पेशल डिश को बनाने के लिये सबसे पहले फेंटी हुयी दही में सिंघाड़े का आटा, अदरक-हरी मिर्च का पेस्ट, सेंधा नमक स्वाद के अनुसार, दालचीनी पाउडर और पानी 3 कप मिलाकर अच्छे से मथ लें या फिर मिक्सी ग्राइंडर में चला लें और रख लें ।
कढ़ाही में तेल डालकर उसको गर्म करें और जब तेल गर्म हो जाये तो उसमें जीरा, साबुत लाल मिर्च, करी पत्ते डालकर तड़का लगाकर दही वाला सारा घोल उड़ेल दें और लगातार गर्म करते रहें । जब कढ़ी में उबाल आ जाये तो उसमें कद्दुकस की गयी लौकी डालकर तब तक पकायें जब तक कढ़ी गाढ़ी होनी शुरू हो जाये । फिर इसको धनिया पत्ती से सजाकर गर्म ही सर्व करें ।
.
ध्यान रखें कि उपरोक्त लिखी मात्रा में सामान लेने पर यह व्रत वाली कढ़ी दो लोगों के लिये पर्याप्त बनेगी । ज्यादा लोगों के लिये बनानी हो तो उसी अनुपात में सामान ज्यादा लेकर बनायी जा सकती है । इस कढ़ी को बनने में लगने वाला समय लगभग 40-45 मिनट तक है ।
.
व्रत वाली कढ़ी बनाने की रेसीपि की यह जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो कृपया लाईक और शेयर जरूर कीजियेगा ।

शाही फिरनी



राजा महाराजाओं का खास प्रिय भोज - शाही फिरनी

शाही फिरनी काफ़ी हद तक खीर जैसे ही होती है लेकिन शाही फिरनी काफी कम समय में बना सकते हैं । शाही फिरनी में पिस्ता और बादाम के साथ इलायची का स्वाद और केसर की खुश्बू भी होती है ।
तो चलिए इस पोस्ट में जानते हैं शाही फिरनी बनाने की विधी


शाही फिरनी बनाने के लिए आवश्यक सामग्री :-

(यहाँ दी गई सामग्री 4 लोगों के लिए पर्याप्त है)

दूध :- 3 कप
बादाम की गिरी :- 10
बासमती चावल :- ढाई बड़े चम्मच
शक्कर :- स्वादानुसार
पिस्ता - 2 बड़े चम्मच
केसर - आधा छोटा चम्मच
छोटी हरी इलायची - 5


शाही फिरनी को बनाने की विधि :-

सबसे पहले चावल को साफ कर लीजिये और 20 मिनट के लिए आधे कप पानी में भिगोने रख दीजिये । चावल भीगने के बाद उसका पानी निकालकर कुछ समय के लिए छलनी पर रख दीजिए । इसके बाद चावल को दरदरा पीस लीजिए ।

इसके बाद पिस्ता और बादाम का छिलका निकालकर इन्हे बारीक काट लीजिए ।
अब इलायची का बाहरी छिलका निकालकर उसके दानो को अच्छी तरह कूट लीजिये ।

अब केसर को एक बड़े चम्मच दूध(गुनगुने) में भिगो लीजिये ।

अब एक भारी तली के बर्तन में दूध उबाल लीजिये. ध्यान रहे की पहला उबाल आने पर ही आँच धीमी कर दीजिए और इसमें पिसे हुए चावल साल दीजिये । अब चावल को दूध में पकने दीजिए । यह मिश्रण तली में लगे नही इसलिए इस मिश्रण को बराबर चलाते रहिये ।

चावल को अच्छी तरह से गल जाने तक पका लीजिये । इस प्रक्रिया में तक़रीबन 10 मिनट का समय लगेगा ।
अब कटे हुए पिस्ता,बादाम और शक्कर को दूध में मिला लीजिये और इस मिश्रण को अच्छी तरह एक मिनट और पका लीजिये ।
अब गैस को बंद कर दीजिये ।

अब केसर और कुटी हुई इलायची को दूध में मिलाकर फिरनी को ठंडा होने रख दीजिए ।
फिरनी ठंडी हो जाने पर 50 मिनट के लिए फ्रिज में रख दीजिये ।

तो लीजिये परोसने के लिए स्वादिष्ट शाही फिरनी बिलकुल तैयार है ।
.
शाही फिरनी बनाने की विधी की जानकारी आपको पसन्द आई हो तो कृपया लाईक और शेयर जरूर कीजियेगा ।

स्पेशल बाकरवड़ी



महाराष्ट्र की खासमखास स्पेशल बाकरवड़ी
.
महाराष्ट्र की सुप्रसिद्ध और काफी मशहूर, कुरकुरी और लज़ीज़ बाकरवडी, जो की ख़ास तौर से दिवाली के त्यौहार में बनाई जाती है.बाकरवड़ी सभी उम्र के लोगों को बेहद पसंद आती है.
बाकरवड़ी तल कर बनाई जातीं है. कुछ लोग इसे ओवन में बेक करके भी बना लेते हैं.


तो तैयार हो जाइये ये जानने के लिए की बाकरवड़ी कैसे बनाई जाती है :-


बाकरवड़ी बनाने के लिए आवश्यक सामग्री:-
(निचे दी गयी सामग्री 13-15 बाकरवड़ी बनाने के लिए पर्याप्त है )


आटा लगाने के लिये आवश्यक सामग्री:---
बेसन -2 कप
गेहू का आटा -1 कप
अजवायन -1/2 चम्मच
तेल - 1/4 कप (आटे में डालने के लिये)
तेल - बाकरवड़ी तलने के लिये
नमक स्वादानुसार
हल्दी पाउडर -स्वादानुसार


मसाला भरने के लिए आवश्यक सामग्री:-
नारियल - 1 चम्मच (कद्दूकस और भुना हुआ )
तिल - 1 चम्मच ( भुना हुआ)
धंनियां पाउडर - आधा चम्मच
लाल मिर्च पाउडर - 2 चम्मच
हींग पाउडर -पाँव चम्मच
जीरा पाउडर - 1 छोटी चम्मच
खसखस -1/2 चम्मच
अदरक पाउडर - 1/2 चम्मच
लाल मिर्च पाउडर - 1/4 छोटी चम्मच
गरम मसाला - आधा छोटी चम्मच
जीरा पाउडर - 1 छोटी चम्मच
नमक -स्वादानुसार
हरा धनियां - 1 चम्मच (बारीक कतरा हुआ)
नीबू का रस - 1 चम्मच या इमली का पानी 1 चम्मच


बाकरवड़ी बनाने की विधि :-


सबसे पहले गेहू का आटा और बेसन को बर्तन में अच्छी तरह छान कर दूसरे बर्तन में निकाल लीजिये. आटे में हल्दी पाउडर,नमक, अजवायन और तेल डालिये और इस मिश्रण को अच्छी तरह मिला लीजिये. इसके बाद इस मिश्रण में पानी डालिये और सख्त आटा गूथिये.गुथने के बाद आटे को आधे घंटे के लिये ढककर रखें.


भरने के लिए मसाला तैयार कीजिये :-
तिल और खसखस को एक छोटी कढाई में लेकर तिल चटकने तक भूनिये,उसके बाद, कद्दूकस किया हुआ नारियल कढ़ाई में डाले और हलकी आंच पर भून लीजिये. इस भुने हुए मसाले को मिक्सर में डालकर मोटा मोटा पीस लीजिये. पीसने के बाद सारे मसाले एक बर्तन में निकाल कर अच्छी तरह मिला लीजिये. इस मिक्स किये हुए मसाले को चार भागों में बाँट लें.
गुथा हुआ आटा लेकर उसे अच्छी तरह मसल कर चिकना कर लें और चार भागों में बांटकर उसके चार गोले बना लें. हर एक गोले को चपाती की तरह ७-८ इंच के व्यास में गोल बेलकर इस चपाती के ऊपर इमली का पानी या लिम्बु का रस लगाइये. इस के बाद, एक भाग मसाला डालिये, बराबर करते हुये फैलाइये. चपाती को मोड़िये. पूरी तरह मोड़ने के बाद पानी लगते हुए किनारों को चिपका दीजिये. अब इस मोड़े हुए रोल को चाकू से लगभग १-२ इंच लम्बे टुकड़े काट लीजिये और इन काटे हुये टुकड़े को प्लेट में रखें. इसी तरह सारे गोले बेल कर,काट कर तैयार कर लें.


कढाई में तेल गरम करें और ये काटे हुए टुकड़ों को गरम तेल में डालकर तले. धीमी आंच पर बाकरवड़ी को ब्राउन कलर होने तक तलिये. उसके बाद, तली हुई बाकरवड़ी निकाल कर किसी बर्तन में रखें. सभी टुकड़ों को इसी तरह तेल में तल कर निकाल लें..


तो लीजिये आपकी ताज़ी ताज़ी और गरमागरम महाराष्ट्रियन बाकरवडी खाने के लिए एकदम तैयार हैं. इसे ठंडी होने पर एयरटाइट(हवाबंद) कन्टेनर या डिब्बे में भर कर रख लें और जब आपका मन करे तब इसे चाय के साथ खाइये. ये बाकरवड़ी महिने भर तक प्रयोग की जा सकती है.
.
महाराष्ट्रियन बाकरवडी बनाने की विधी की जानकारी आपको पसन्द आई हो तो कृपया लाईक और शेयर जरूर कीजियेगा ।

नारियल और चॉकलेट के लड्डू



सूखे हुए नारियल का चुरा पिघले हुए सफ़ेद चॉकलेट में मिलाकर बने हुए लड्डू बड़े ही स्वादिष्ट और मीठे होते है. ये लड्डू ख़ास तौर पर बच्चों को काफी पसंद आते है. इन लड्डू को बनाने में ज्यादा समय भी नहीं लगता है. झटपट बनाइये और इस त्यौहार के दिनों में अपने परिवार के साथ चॉकलेट लड्डुओं का मज़ा लीजिये. तो चलिए जानते है की चॉकलेट और नारियल के लड्डू कैसे बनाये:-

लड्डू बनाने के लिए आवश्यक सामग्री :-
दी हुई सामग्री 18-20 लड्डू बनाने के लिये उपयुक्त है.

चॉकलेट (सफ़ेद या व्हाइट कम्पाउन्ड)- 300

ग्राम नारियल पाउडर(सुख हुआ) - 60 ग्राम

क्रीम - 2 बड़े चम्मच मक्खन - 2 बड़े चम्मच



 
बनाने की विधि:-

चॉकलेट कंपाउंड को बारीक टुकड़ो में काट कर एक प्याले में निकल लें.

इन टुकड़ों को लगभग ३० सेकण्ड्स तक माइक्रोवेव में रख दीजिये.

प्याले को बहार निकालकर चॉकलेट तो अच्छी तरह चलाये.

अगर चॉकलेट पूरी तरह पिघली नहीं तो फिर से माइक्रोवेव में रखें और प्याले को बहार निकालकर फिर से चॉकलेट को चलाये.

इस तरह से चॉकलेट पूरी तरह पिघल कर तैयार हो जाएगी.

अब इसी तरह माखन को भी माइक्रोवेव करके पिघला लें.

पिघलने के बाद क्रीम में मिलाकर अच्छी तरह घोल लें.

उसके बाद इस मिश्रण को चॉकलेट में मिलाएं और गाढ़ा होने तक मिलाये और साथ ही उसमे नारियल का पाउडर डालिये.

इस पुरे मिश्रण को अच्छी तरह घोल लें और अब ये मिश्रण लड्डू बनाने के लिए बिलकुल तैयार है.

अब इस मिश्रण को हाथ में लेकर हलवाई की तरह दबाकर गोल लड्डू बनाते हुए सूखे नारियल पाउडर में लपेटकर बर्तन या प्लेट में रखते जाएँ.

इस तरह से सभी लड्डू बनालें.इस तरह सारे लड्डू खाने के लिए तैयार है!

अगर आपको मिश्रण पतला लग रहा है तो उसे 5 मिनट तक फ्रिज में रख दें

और मिश्रण गाढ़ा होने पर गोल गोल लड्डू बना लें. .

नारियल और चॉकलेट के लड्डू बनाने की विधी की जानकारी आपको पसन्द आई हो तो कृपया लाईक और शेयर जरूर कीजियेगा ।

चावल की चकली



काफी लोगों को दिवाली के त्यौहार में अगर चकली खाने का मौका न मिले तो उन्हें ऐसा लगता है जैसे दिवाली अधूरी सी रह गयी हो.इसलिए आज हम सीखेंगे की चकली कैसे बनाते है और वह भी चावल से. चावल की चकली बनाने में काफी काम समय लगता है और ये बहोत ही स्वादिष्ट होती है.

तो चलिए चावल की चकली बनाते है :


चावल की चकली बनाने के लिये आवश्यक सामग्री :-
(निचे दी गयी सामग्री १०-११ चकली बनाने के लिए पर्याप्त है )
चावल - १-२ कप (१७० ग्राम)
सौंफ का पाउडर - ½ छोटी चम्मच
काली मिर्च - ½ छोटी चम्मच (कुटी हुई)
धनिया पाउडर - १ चम्मच
जीरा पाउडर - ½ चम्मच
हींग - चुटकी भर
तेल - चिक्की को तलने के लिए
तेल - १ चम्मच
नमक - स्वादानुसार


चावल की चकली बनाने की विधि :-

चावल का आटा लें और उसे गूंथने के लिए पहले पानी गरम कर लें. पानी उबलते समय इसमें १ चम्मच तेल, धनिया पाउडर,काली मिर्च पाउडर ,जीरा पाउडर, सौंफ पाउडर और हींग दाल दें.
सभी मसाले मिलाइये और अब चावल का आटा पानी में डालकर मिलाएं. मिलाने के बाद १५-२० मिनट इस मिश्रण को ढककर रखें.
उसके बाद, आटे को एक प्याले में निकले और गूंथकर काफी सख्त आटा तैयार कर लें.
हाथ पर तेल मलकर आते को चिकना बना लें. इस तरह ये आटा अब चकली बनाने के लिए तैयार है.

अब गुंथे हुए आटे से थोड़ा आटा निकालकर उसे लंबा आकार देते हुए चकली वाली जाली में डाले और कुछ समय बाद मशीन को बन्द करें. एक पॉलिथीन बैग या शीट रखिये और मशीन को ऊपर से दबाते हुए गोल घुमाकर गोल चकली शीट पर बांयें. ९-१० चकली बनाकर तैयार का लें.

कढ़ाई में तेल गरम कर ले और चकली को शीट पर से आराम से उठाकर गरम तेल में डाले. ध्यान रहे की चकली का आकार नहीं बदलना चाहिए. २-३ या जितनी चकली तेल में एक साथ ताली जा सकती है उतनी डाले और चकली को ब्राउन कलर का होने तक ताल कर एक प्लेट में निकल लें.
इसी तरह साड़ी चकली ताल कर बना लें.

और लीजिये आपकी चावल की चकली बिलकुल तैयार है. इस चकली को अगर आप हवाबंद डिब्बे या कंटेनर में ठंडी होने पर रखेंगे तो ये कम से कम २ महीने तक आप सेवन कर सकते है.चावल की चकली बनाने की यह रेसीपी आपको पसंद आयी हो तो कृपया लाईक और शेयर जरूर कीजियेगा ।

मिल्क पाउडर से बनाये मावा



कई बार घर पर मावा की मिठाई बनाते समय मावा उपलब्ध नहीं होता. उस समय आप बिलकुल भी चिंता न करें क्योंकि आप दूध पाउडर से भी मावा बना सकते है और वो भी बिलकुल आसानी से.



मावा बनाने के लिये आवश्यक सामग्री :-
मिल्क पाउडर - १ कप (२००-३०० ग्राम)
मक्खन - २ चम्मच
दूध - १/२ कप
क्रीम - पाव कप


मावा बनाने की विधि:-
सबसे पहले हमे मक्खन को पिघलना है.उसके लिए एक फ्राइंग पैन लीजिये और उसमे माखन डालकर धीमी आंच पे पिघलाए, साथ ही साथ क्रीम दाल दीजिये और इस मिक्स्ड मिश्रण को अच्छे से पकाएं. इसके बाद इस मिश्रण में दूध डालकर इस मिश्रण को अच्छे से मिक्स करें.

अब इस मिश्रण में थोड़ा सा मिल्क पाउडर डालकर मिक्स करते रहिये. जरुरत के अनुसार मिल्क पाउडर डालते रहिये. इस मिश्रण को चिकना और गाढ़ा होने तक धीमे आंच पर पका लें.

जिस समय यह पूरा मिश्रण मावा जैसा दिखने लगे उसी समय गैस बंद करके इस मिश्रण को किसी बर्तन या प्याले में निकल लें.
और इस तरह मावा तैयार हो गया! इस मावा से आप गुलाब जामुन ,लड्डू, बर्फी, गाजर का हलवा भी बना सकते है.

कबाब शाकाहारी

 

शाकाहारी कबाब कई प्रकार के होते हैं, जैसे की, कच्चे केले के कबाब, अरबी के कबाब, पपीते के कबाब इ. हम आज सीखेंगे कैसे बनाये "लोबिया के कबाब". ये बनाने में बहोत ही आसान और स्वादिष्ट भी होते हैं. लोबिया पोटेशियम,कैल्शियम और मैग्नीशियम का एक अच्छा स्रोत है.
तो चलिए बनायें लोबिया के कबाब!


लोबिया के कबाब बनाने के लिए आवश्यक सामग्री :-
(ये सामग्री १४-१६ कबाब बनाने के लिए उपयुक्त है )
लोबिया -१ कप
प्याज - १(बारीक कटी हुई)
उबला आलू- १
हरी मिर्च - २(बारीक कटी हुई)
अदरक- २ चम्मच(बारीक कटी हुई)
नमक स्वादानुसार
हरा धनिया -३ बड़े चम्मच(बारीक कटी हुई)
गरम मसाला- १/२ छोटे चम्मच
चाट मसाला-१/२ छोटे चम्मच
तेल - २ चम्मच( सेकने के लिए)
लाल मिर्च पाउडर- १/२ छोटे चम्मच
जीरा -१/२ छोटा चम्मच



लोबिया के कबाब बनाने की विधि :-

लोबिया को बीनकर अच्छी तरह धो लीजिये .धोने के बाद, इसे ४-५ कप पानी में रात भर के लिए भिगोने रख दीजिये. अगर आप इसे सुबह भिगोने रखते है तो ध्यान रहे, इसे कम से कम 5 घंटे तक गुनगुने पानी में भिगोकर रखना जरुरी होता है.

लोबिया में १ या १/२ छोटा चम्मच नमक डालकर मध्यम आँच पर कुकर में उबाल लीजिये. सामान्य रूप से लोबिया को गलने में १४-१५ मिनट का समय लगता है.
उबल जाने के बाद इसे थोड़ा ठंडा हो जाने दीजिये. ठंडा होने पर इसे छलनी पर पलट कर अतिरिक्त पानी निकल लें.
अब लोबिया को एक बड़े बर्तन या कटोरे में लेकर इसे अच्छी तरह मसल लें.
इसी तरह उबले हुए आलू को भी छीलकर अच्छी तरह मसल लें.

एक कढ़ाई लेकर उसमे २-३ छोटे चम्मच तेल गरम कर लीजिये. तेल गरम हो जाने पर इसमें १/२ चम्मच जीरा डालकर उसे तड़क जाने दें.
तड़क जाने पर इसमें कटी हुई प्याज डालकर २-३ मिनट भून लीजिये.
अब इसमें कद्दूकस की हुई अदरक और हरी मिर्च(कटी हुई) डालकर २-३ मिनट के लिए भून लीजिये.

अब इस भुनी हुई प्याज में मसलकर रखा हुआ लोबिया, आलू, पिसा हुआ धनिया,गरम मसाला, स्वादानुसार नमक,चाट मसाला और लाल मिर्च पाउडर दाल दीजिये. इस पुरे मिश्रण को अच्छे से चलाएं.
मिक्स करने के बाद १ मिनट के लिए भूनें , इससे अतिरिक्त पानी सुख जायेगा.
अब आप इसमें बारीक़ कटा हुआ हरा धनिया डालें.
अच्छे से मिलकर, अब गैस बंद कर दें. इस पुरे मिश्रण को थोड़ा ठंडा होने छोड़ दें.

अब आप इस मिश्रण को १४-१६ किसी भी आकार में कबाब बना लीजिये.
अब इन कबाब को सेट होने के लिए उन्हें ढककर फ्रिज में ऍम से कम २० -२२ मिनट के लिए रख दें. ऐसा इसलिए करना है क्योंकि कबाब सकते समय फटेंगे नहीं.
अब एक कढ़ाई या फ्राइंग पैन को गरम करें.इसमें थोड़ा तेल डालकर माध्यम आंच पर कबाब को लाल होने तक अच्छी तरह सेकिये.
तो लीजिये आपके स्वादिष्ट और ज़ायकेदार लोबिया कबाब परोसने के लिए बिलकुल तैयार है!

अखरोट की बर्फी - स्वाद सेहत और शक्ति से भरपूर


अखरोट काफी पौस्टिक मेवा माना जाता है. अखरोट से हमारे शरीर और दिमाग का काफी अच्छी तरह पोषण होता है. इसके बावजूद, काफी लोगों को अखरोट खाना पसंद नहीं होता. तो अगर आप के घर में कोई ऐसा सदस्य हो जिसे अखरोट खाना पसंद नहीं तो आप उन्हें खिला सकते है अखरोट की बर्फी ! अखरोट की बर्फी सभी उम्र के लोगों को बड़ी अच्छी लगती है. ये बनाने में आसान है और काफी कम समय में बन जाती है.

तो जानिये कैसे बनाये अखरोट की बर्फी :-


अखरोट की बर्फी बनाने के लिए आवश्यक सामग्री :-
(तक़रीबन २० बर्फी बनाने के लिए ये सामग्री पर्याप्त है)
शक्कर -१/२ कप( १२० ग्राम)
अखरोट -१ कप (२२५ ग्राम)
पानी- १/४ कप
कुछ बूंदे घी या तेल ( थाली को चिकना करने)



अखरोट की बर्फी बनाने की विधि :-
एक छोटी ट्रे या थाली को कुछ बूंदे घी या तेल की लगाए और उसे चिकना करने के बाद अलग रख दें.अगर आप चाहें तो बरफी को फैलने के लिए बटर पेपर का भी प्रयोग कर सकते हैं.

अखरोट को साफ करने के बाद सूखा पीस लीजिये.अखरोट को अच्छी तरह बारीक पीसें जिससे बरफी चिकनी बनेगी.

एक नॉन स्टिक फ्राइंग पैन या कढ़ाई मे पानी और शक्कर उबालें. पहले उबाल के बाद ही आँच को धीमा करके चाशनी को गाढ़ा होने तक पका लें. इस पूरी प्रक्रिया को लगभग ४-५ मिनट लगेंगे. अखरोट की बरफी बनाने के लिए दो तार की चाशनी पर्याप्त रहती है. दो तार की चाशनी को परखने के लिए आप अपनी दो उंगलियों के बीच एक बूँद चाशनी को लें और उसे खीचें. अगर आपके उंगलियों के बीच में दो तार बन रहे है तो ये चाशनी बिल्कुल सही है.

अब आप कढ़ाई को(जिस में चाशनी है) उसे गैस पर से निकालकर उसमे अखरोट का पाउडर डालें. डालने के तुरंत बाद ही चाशनी में इस मिश्रण को मिलाएं. इसके बाद कढ़ाई को फिर से माध्यम आंच पर रख दीजिये. साथ ही साथ इसे चलते रहिये.चाशनी और अखरोट मिक्स मिश्रण को किनारा छोड़ने तक अछि तरह पकाएं. इसे पकने के लिए २-४ मिऊँटे का समय लगेगा.इसलिए ये सारा काम फुर्ती से करना होगा.

अब आप गैस बंद कर दें. अब एक चिकनी की हुई ट्रे/ बर्तन में १/४ मोटी परत में पूरा मिश्रण बराबर फैलाएं. अगर आप चाहें तो हाथ को चिकन करके भी मिश्रण को फैला सकते है.
इसके बाद अब इसे थोड़े समय के लिए ठंडा होने दीजिये.लगबघ १०-१४ मिनट.

अब अखरोट की बरफी को आप मनचाहे आकार में काट लीजिये.

तो लीजिये आपकी स्वादिष्ट अखरोट की बरफी अब बिलकुल तैयार है खाने या परोसने के लिए !

अगर मौसम गरम हो तो बरफी को फ्रिज में रखना जरुरी होता है. अखरोट की बरफी 3 हफ्ते तक सेवन की जा सकती है

स्ट्रॉबेरी क्रिस्टल्स ठण्डी के मौसम में खाएं



स्ट्रॉबेरी में फॉलिक एसिड, मैग्नीशियम, विटामिन सी, पोटैशियम और आइरन प्रचुर मात्रा में होता है. स्ट्रॉबेरी फीटोनुट्रिएंट्स और फ्लेवनॉइड्स से भी भरपूर होता.स्ट्राबेरी में फाइबर और फ्रुक्टोज़ की मात्रा काफी अधिक पाई जाती है जो की ब्लड शुगर लेवल को काबू में रखने के लिए काफी मददगार साबित हुआ है.

तो चलिए आज हम सीखेंगे कैसे बनाये स्वास्थ्यपूर्ण स्ट्रॉबेरी क्रिस्टल्स:-


स्ट्रॉबेरी क्रिस्टल्स को बनाने के लिए आवश्यक सामग्री :-

(निचे दी गयी सामग्री ३-५ लोगों के लिए पर्याप्त है )
स्ट्रॉबेरी -५००-७०० ग्राम
ब्राउन शक्कर -२ छोटे चम्मच


स्ट्रॉबेरी क्रिस्टल्स को बनाने की विधि :-

सबसे पहले स्ट्रॉबेरी के हरे डंठलों को निकालकर उन्हें अच्छी तरह से धो लीजिये.

अब हर स्ट्रॉबेरी को बीच से दो-तीन भागों में काट लीजिये.

स्ट्राबेरी को काटने जे बाद उसके के ऊपर ब्राउन शक्कर को डालिए.

शक्कर डालने के बाद इस मिश्रण को एक प्लेट में लेकर तकरीबन १२-१६ मिनट के लिए फ्रीजर में रखें.

तो लीजिये स्वादिष्ट ,ठंडी, और पोषक स्ट्रॉबेरी सर्व करने के लिए तैयार हैं.

अगर आप ताजी क्रीम पसंद करते है तो इन क्रिस्टल्स में भी डालकर इस डिश का लुत्फ़ उठा सकते हैं.

सेब का हलवा - शानदार तोहफा, स्वादिष्ट और सेहत से भरपूर

 
सेब सभी फलों में सबसे अधिक पौष्टिक फल मन जाता है.सेब हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और मधुमेह को भी दूर रखता है. मोटापे में भी सेब खाने से वजन कम करने में काफी सहायता होती है.

तो अब आप सेब के बारे में पढ़ने पर समज गए होंगे की आज की डिश सेब से सम्बंधित है.
तो तैयार हो जाइए बनाने के लिए सेब का हलवा! ये बनाने में बहोत आसान है और काफी कम समय में आप इसे बना सकते हैं.


सेब का हलवा बनाने के लिए आवश्यक सामग्री:-
(निचे दी गयी सामग्री ४-६ लोगों के लिए पर्याप्त है)
सेब - ८०० ग्राम
मेवा -१/३ कप ( बादाम, काजू, चिरौंजी और पिस्ता का इस्तेमाल कर सकते हैं)
शक्कर - आधा कप या आपके स्वादानुसार
घी - २ बड़े चम्मच
इलायची - २-३


सेब का हलवा बनाने की विधि :-

सबसे पहले सेब को धो लें. धोने के बाद साफ़ कपडे या किचन पेपर से अच्छी तरह पोंछ लें.
अब सेब का बाहरी छिलका काटकर या हटाकर इन्हें बड़े छेड़ वाले कद्दूकस से घिस लीजिये.
साथ ही साथ इसके बीज भी निकल दें.

इलायची का छिलका निकालकर बीज को अच्छी तरह कूट लें ताकि उसका पाउडर बन जाए.
मेवे (बादाम, काजू, पिस्ता इ.) को महीन-महीन कतर लें.

एक कढ़ाई लेकर उसमे में एक छोटा चम्मच घी गरम करें. घी गरम हो जाने के बाद इसमें मेवे को १-२ मिनट तक या फिर खुश्बू आने तक भून लीजिये. मेवा भूनते समय आप ये जरूर ध्यान रखें कि मेवा जलने न पाए. भुनने के बाद मेवे को अलग निकालकर रख दें.

अब कढ़ाई में २ -३ बड़े चम्मच घी डालकर उसमे कद्दूकस किये हुए सेब को मध्यम आंच पर ३-५ मिनट के लिए भून लें.

अब हमे सेब को गलाना होगा इसलिए आंच को धीमा करें और सेब को अच्छे से गलने तक पकने दें. साथ ही साथ सेब को बिच-बिच में चलते रहना मत भूलें. लगभग १३-१६ मिनट में सेब गल जाएगा.

सेब गल जाने के बाद, इसमें भुना हुआ मेवा और शक्कर मिलाकर डालें. इस मिश्रण में शक्कर पानी छोड़ेगा इसलिए छोड़ा गया पानी सूखने तक सेब को पकाएँ. इस पूरी प्रक्रिया को तक़रीबन ३-४ मिनट का समय लगेगा.

अब आंच को बंद कर दें. इस तरह स्वादिष्ट सेब का हलवा परोसने के लिए बिल्कुल तैयार है.
इसे और ज्यादा स्वादिष्ट बनाने के लिए आप इसमें कुटी हुई इलायची मिला लें.

आप यह सेब का हलवा व्रत के दिनों में भी सेवन कर सकते हैं.