फतेहाबाद लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
फतेहाबाद लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बाबा रामकेवल ने बूट पॉलिस कर सडक़ बनाने की मांग की


 बाबा रामकेवल ने बूट पॉलिस कर सडक़ बनाने की मांग की

फरीदाबाद,  28 मार्च। प्याली-हार्डवेयर सडक़ निर्माण की मांग को लेकर पिछले 24 दिनों पर धरना पर बैठे अनशनकारी बाबा रामकेवल ने आज अपने साथियों के साथ प्याली चौक पर बूट पॉलिस कर निगम प्रशासन के खिलाफ विरोध दर्ज करवाया।
इस मौके पर उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए अनशनकारी बाबा रामकेवल ने कहा कि इस खूनी सडक़ निर्माण में आ रही बाधाओं को निगम प्रशासन जल्द से जल्द समाप्त कर इसका निर्माण शुरू करवाएं। उन्होंने कहा कि अगर प्रशासन इस सडक़ को बनाने के लिए दिलचस्पी दिखाएं या फिर बिल्कुल मना कर दें। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों में सामूहिक रूप से भिक्षा मांग थी तथा आज बूट पॉलिस कर निगम के प्रति विरोध रोष जताया है।
इस अवसर पर संस्कार फाउण्डेशन की अध्यक्षा परमिता चौधरी, एनआईटी बस अड्डे स्थित काली मंदिर के प्रधान राकेश उर्फ रक्कू, इंटेक नेता नरेश वैष्णव, प्रमोद भड़ाना, राजू बैंसला, हरजिन्दर भड़ाना, सरदार प्रीतपाल सिंह, आम आदमी पार्टी के नेता राजकुमार खरवार, कुलदीप सिंह, समाजसेवी सतीश चोपड़ा, सरदार अवतार सिंह, सरदार मंजीत सिंह, साहिल मग्गू, गौरव सहित अनेकों युवा मौजूद थे।
पोर्टल पर ब्योरा दर्ज होने से दलालों की बोगस खरीद रुकी, दूसरे राज्यों से भी कम आया धान

पोर्टल पर ब्योरा दर्ज होने से दलालों की बोगस खरीद रुकी, दूसरे राज्यों से भी कम आया धान

सरकार द्वारा मेरी फसल मेरा ब्योरा पोर्टल पर पंजीकृत फसल खरीदने तथा जिले के किसानों द्वारा बाहरी राज्यों से लाए जा रहे धान के ट्रकों को रोकने का परिणाम यह हुआ कि इस बार जिले भर की मंडियों में परमल धान की 27.74 फीसदी कम खरीद हुई है। पोर्टल व गेट पास के चलते जहां दलाल बोगस खरीद नहीं कर सके वहीं किसानों के विरोध के चलते दूसरे राज्यों से भी धान कम आया है।

इसके अलावा 1121, मुच्छल व 1509 धान की फसल पिछले साल से अधिक आई है। यहां बता दें कि अब तक भी जिले में मुच्छल व 1121 धान की मंडियों में खूब आवक हो रही है। क्योंकि किसानों ने भाव में तेजी आने की संभावना के चलते अपनी ये फसलें घर में ही रोकी हुई थी। फतेहाबाद की मंडी में पीआर धान की खरीद पिछले साल से 2.4 गुना व भूना में 1.2 गुना अधिक हुई है। बाकी सभी मंडियों में पिछले साल से कम खरीद हुई है।

1509 की 7.52 लाख क्विंटल हो चुकी खरीद

खरीद शुरू होने के समय 1509 का भाव किसानों को कम मिल रहा था। जिसके चलते सरकार ने इस फसल को भी एमएसपी पर खरीदने का निर्णय लिया था। लेकिन बाद में भाव में तेजी आ गई थी। जिले में पिछले साल 1509 किस्म की 4 लाख 64 हजार 694 क्विंटल की खरीद हुई थी। लेकिन इस बार अब तक जिले में 7 लाख 52 हजार 185 क्विंटल की खरीद हो चुकी है जो पिछले साल से 1.6 % अधिक है।

2.67 लाख क्विंटल अधिक बिका 1121

इस समय जिले में 1121 धान का भाव किसानों को 2500 से 2800 तक मिल रहा है। जिसके चलते जिले में अब तक पिछले साल के मुकाबले 2.67 लाख क्विंटल धान अधिक बिक चुका है। पिछले साल जिले में 1121 धान की 3.35 लाख क्विंटल खरीद हुई थी वहीं इस बार अब तक 6.02 लाख क्विंटल खरीद हो चुकी है।

कॉटन की 5 लाख क्विंटल हुई खरीद

जिले में अब तक 5 लाख 1565 क्विंटल कॉटन फसल की खरीद की गई है। जिसमें फतेहाबाद मंडी से 1 लाख 49 हजार 900 क्विंटल, भट्टूकलां मंडी से 1 लाख 26 हजार 895 क्विंटल, भूना मंडी से 2 लाख 16 हजार 928 क्विंटल, रतिया मंडी से 3775 क्विंटल, टोहाना मंडी से 3850 क्विंटल खरीद हुई है।

ये हैं परमल धान की कम खरीद होने के कारण

1. सरकार ने मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर दर्ज फसल ही खरीदी इसलिए हर साल बाहर से आने वाली नॉन रजिस्टर्ड फसल की खरीद नहीं हो पाई। 2. पंजीकरण नहीं होने के चलते पंजाब के किसानों की धान की खरीद नहीं हो पाई। 3. बिहार से सस्ते रेट पर धान लाकर यहां एमएसपी पर बेचने वाले दलालों का किसानों द्वारा विरोध करने से गड़बड़ी रुकी। 4. मंडियों में भी पोर्टल व गेट पास जैसी सुविधाएं शुरू होने से शैलर संचालक व अन्य बोगस खरीद नहीं कर पाए।

कोरोना के साथ अब डेंगू ने भी बढ़ाई परेशानी

कोरोना के साथ अब डेंगू ने भी बढ़ाई परेशानी

 जिले में जहां पिछले कुछ दिनों से कोरोना का प्रकोप कम होता दिख रहा है, लेकिन अब डेंगू के बढ़ते केसों ने स्वास्थ्य विभाग व आमजन की चिंता बढ़ा दी है। बुधवार को जिले में तीन लोगों की डेंगू रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इससे पहले 5 केस मिल चुके हैं। ऐसे में लोगों को अपने स्वास्थ्य को लेकर चिंता सताने लगी है।

दूसरी ओर कोरोना की बात करें तो बुधवार को जिले में 13 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई जबकि ठीक होने पर 15 लोगों को डिस्चार्ज किया गया। इसी के साथ ही जिले में अब संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 2763 हो गई है। इनमें से 2475 लोग ठीक हो चुके हैं तथा अब तक जिले में 53 कोरोना संक्रमितों की मौत हो चुकी है। जिले में अब कोरोना के 235 एक्टिव केस हैं, जिनका इलाज चल रहा है।

ये मिले काेराेना पॉजिटिव

इनमें नागरिक अस्पताल की 32 वर्षीय स्टाफ कर्मी, राजीव कॉलोनी निवासी 29 वर्षीय युवती, माजरा रोड निवासी 23 वर्षीय युवती, ढिंगसरा निवासी 59 वर्षीय व्यक्ति, 67 वर्षीय युवती, सुंदर नगर निवासी 24 वर्षीय युवती, भट्टू के मेहुवाला मोड़ निवासी 25 वर्षीय युवती, भूना के पटवार भवन के पास 40 वर्षीय व्यक्ति व उसकी पत्नी, मानसा निवासी 45 वर्षीय व्यक्ति, लितानी निवासी 57 वर्षीय व्यक्ति, के अलावा टोहाना के सिंबल रोड पर स्थित हरिओम एग्रो इंडस्ट्रीज से चार लोग पॉजिटिव मिले हैं, जिनमें 26 वर्षीय युवक, 18 वर्षीय युवक, 14 वर्षीय बालक, 35 वर्षीय युवक शामिल हैं।

तीनों युवा हुए डेंगू के शिकार

बुधवार को जिले में 3 डेंगू मरीजों की पुष्टि हुई है। यह मरीज फतेहाबाद के वार्ड नंबर 3 में दुर्गा मंदिर एरिया में, भूना के बुआन व टाेहाना के ग्रामीण एरिया में मिले हैं। डेंगू मरीजों की उम्र, 24, 29 व 38 साल है। इन मरीजों में डेंगू की पुष्टि होने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने संबंधित एरिया में फोगिंग कराई है वहीं आस-पास के घरों व दुकानों का सर्वे किया जा रहा है। अब तक जिले में कुल 8 मरीजों में डेंगू की पुष्टि हो चुकी है।

स्वास्थ्य विभाग ने मच्छरदानियां बांटी

स्वास्थ्य विभाग के एमपीएचडब्ल्यू सुशील कुमार ने बताया कि जहां-जहां डेंगू मरीजों के मिलने की पुष्टि हुई है, वहां पर फोगिंग कराई जा रही है। वहीं भूना एरिया में टीमें सर्वे करने में लगी हुई हैं। इनमें अनिल राव, ब्रीडिंग चेकर शीशपाल मकानों में जाकर डेंगू लारवा की चेकिंग कर रहे हैं। इसके अलावा फतेहाबाद शहर में 30 लोगों को मच्छरदानियां बांटी गई हैं। यह मच्छरदानियां उन लोगों को दी गई हैं जोकि 2017 में डेंगू से ग्रस्त मिले थे।

डेंगू से बचाव को रखे साफ-सफाई

बुधवार को 3 नए डेंगू मरीजों की पुष्टि हुई है। डेंगू से बचाव का सबसे बड़ा उपाय साफ सफाई है। लोगों से अपील है कि वह अपने घर या आस-पस कहीं भी पानी को लंबे समय तक एक जगह खड़ा न होने देंगे। फ्रिज ट्रे, टंकियों के अलावा ऐसी सभी चीजों की सफाई करते रहें। इसे लेकर लोगों को जागरूक किया जा रहा है। -डॉ. हनुमान, डिप्टी सिविल सर्जन।

शराब तस्करों व ठेकेदारों के बीच झगड़ा, महिला सहित बेटे को लगी गोली


गांव नहला में शनिवार की रात्रि को शराब तस्करों एवं ठेकेदारों के बीच हुए झगड़े में ठेकेदार की पत्नी व बेटे को भी गंभीर चोटें आई हैं। ठेकेदार की पत्नी की बाजू टूट गई है तथा बेटे को पैर में गोली मारी गई है। घटना को लेकर गांव नहला के दर्जनों ग्रामीणों ने सोमवार को गैंगवार के रूप में शराब तस्करों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग को लेकर थानाध्यक्ष से मिले। ग्रामीणों ने बताया कि शनिवार की रात्रि को नहला शराब ठेके के ठेकेदार सूरजमल के 19 वर्षीय बेटे राहुल कुमार अपने घर के बाहर दरवाजे के बाहर खड़ा था। इसी दौरान विक्रम गैंग के एक दर्जन युवकों ने गाड़ी में आकर मारपीट शुरू कर दी, वहीं घर में घुसकर ठेकेदार की पत्नी को भी बेरहमी से पीटा गया। राहुल हमलावरों से खुद को छुड़वाकर भागने लगा तो उस पर फायरिंग की गई, लेकिन गोली उसके नजदीक से गुजर गई।

ग्रामीणों ने बताया कि शराब ठेकेदार ने विक्रम गैंग के लोगों को नहला में अवैध सप्लाई करने से रोका था। इससे गुस्साए विक्रम गैंग के लोगों ने ठेकेदार के घर पर हमला किया, लेकिन घटना के समय सूरजमल घर पर नहीं था। गैंगवार में शामिल युवकों ने धमकी दी कि अगर हमारे काम में रोड़ा अटकाया तो ठेकेदार के पूरे परिवार को खत्म कर देंगे। घटना के बाद घायल अवस्था में दोनों मां-बेटा को हिसार में दाखिल किया गया था। ग्रामीणों का आरोप है कि विक्रम गैंग ने खुद फायरिंग करके सूरजमल के परिवार को फंसाने की साजिश रची है, जबकि उन पर किसी ने कोई हमला नहीं किया था। हालांकि उधर विक्रम सिंह ने ठेकेदार व उसके परिचित लोगों द्वारा हमला करके घायल करने का आरोप लगाया है, जिसकी शिकायत पर पुलिस ने विभिन्न धारा के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

ग्रामीण बोले, विक्रम गैंग ने मचा रखा है आंतक 

नहला के ग्रामीण एवं पंचायत सदस्य प्रेम कुमार, भाजपा नेता राजवीर सिंह ढिल्लो, मेवा सिंह, प्रहलाद सिंह, सत्यनारायण, सतबीर सिंह, वेद प्रकाश ढिल्लो, प्रवीण कुमार, भूपेंद्र सिंह, अनिल कुमार बेनीवाल, किताब सिंह ढिल्लों आदि ने बताया कि नहला में विक्रम गैंग के दर्जनों युवाओं ने आंतक मचा रखा है। गैंग के कई युवाओं पर अवैध शराब की तस्करी, डकैती व हत्या प्रयास तथा हथियारों की सप्लाई करने इत्यादि के मामले पुलिस में दर्ज है। ग्रामीणों ने बताया कि कुछ दिन पहले शराब ठेके पर विक्रम गैंग के लोगों ने डकैती की थी जिनका मामला कोर्ट में विचाराधीन है। उन्होंने कहा कि विक्रम गैंग की गुंडागर्दी के कारण बहन बेटियों को भी घरों से बाहर निकलना दुर्भर बना हुआ है। नहला के लोगों ने पुलिस अधीक्षक व थानाध्यक्ष से रूबरू होकर विक्त्रम गैंगवार से मुक्ति दिलवाने की गुहार लगाई है। मामले की निष्पक्ष जांच होगी : एसएचओ थानाध्यक्ष कपिल कुमार सिहाग ने बताया कि नहला में ठेकेदारों के बीच हुए झगड़े को लेकर पुलिस निष्पक्ष जांच करेगी। बरहाल पुलिस ने विक्रम के बयान पर 7 लोगों के विरुद्ध हत्या प्रयास का मुकदमा दर्ज कर लिया है