साल 2021 में किसकी चमकेगी किस्मत ? पढ़ें साल 2021 का वार्षिक राशिफल - Horoscope 2021 in Hindi

घुटने घिस गए है - बबूल और हरसिँगार का यह प्रयोग आजमा कर देख लें



घुटने घिस जाने के कारण बदलवाने की नौबत आ गयी है तो पहले एक बार बबूल और हरसिँगार का यह प्रयोग आजमा कर देख लें
.
उम्र बढ़ने के साथ साथ घुटनों का घिस जाना बुजुर्ग लोगों के सबसे बड़ी पीड़ा की दशा बन जाती है और एक समय के बाद डॉक्टर बोल देते हैं कि घुटने बदलवा लो । इस अवस्था से आपके भी परिचय में कोई व्यक्ति हों तो उनको एक बार यह प्रयोग जरूर आजमाने के लिये बोलें, बहुत उम्मीद है कि बिना घुटने बदलवाये ही उनको काफी आराम आ जायेगा । जानिये इस प्रयोग के बारे में ।
.
बबूल अथवा कीकर के पेड़ से आप सब भली भाँति परिचित होंगे ही । हमको बस इस बबूल के पेड़ की फलियॉ चाहियें । बबूल के पेड़ की फलियों को तोड़ कर उनको बीजों के साथ ही धूप में पूरी तरह सुखा लें और इमामदस्ते में दरदरा कूटकर, मिक्सी में चला कर उसका बारीक चूर्ण तैयार कर लें । आपकी पहली दवा तैयार है । इसको काँच की साफ और एयर टाईट शीशी में भरकर रख लो ।
.
दूसरी चीज आपको चाहिये हरसिँगार के पेड़ के पत्ते । हरसिँगार के पेड़ के पत्तों का काढ़ा आपको रोज सेवन करने से पहले ताजा तैयार करना पड़ेगा । काढ़ा तैयार करना बहुत आसान है और इसकी विधी हम आपको बता रहे हैं । काढ़ा तैयार करने के लिये हर्सिँगार के दस पत्ते लेकर उनको 200 मिलीलीटर पानी के साथ साफ बरतन में उबलने के लिये रख दो । जब उबलते उबलते पानी 100 मिलीलीटर बाकि रहे तो उतार कर छान लों और पीने लायक ठण्डा करके पीना है ।
.
सेवन विधी :-
बबूल की फलियों का चूर्ण 3 ग्राम औरहरसिँगार के पत्तों का काढ़ा 100 मिलीलीटर एक बार में पीना है और ऐसी दिन में दो खुराक पीनी हैं । एक बार सुबह को और एक बार शाम को । यह प्रयोग लगातार 60 दिन तक करने से घुटनों में वापिस जान आने लगती है ऐसा हमारी जानकारी में कुछ रोगियों का अनुभव है । यदि इस प्रयोग के साथ रोज एक बार गाय के दूध से बने देशी घी से घुटनों की हल्की हल्की मालिश की जाये तो और भी उत्तम परिणाम मिलने की सम्भावना होती है ।
.
इस पोस्ट के माध्यम से दी गयी जानकारी हमारी समझ में पूरी तरह से हानिरहित हैं, फिर भी आपके आयुर्वेदिक चिकित्सक के परामर्श से ही इन प्रयोगों को करने की हम आपको सलाह देते हैं ।
.
इस पोस्ट के माध्यम से दी गयी यह जानकारी आपको अच्छी और लाभकारी लगी हो तो कृपया लाईक और शेयर जरूर करें । आपके एक शेयर से किसी जरूरतमंद तक सही जानकारी पहुँच सकती है और हमें भी आपके लिये और बेहतर लेख लिखने की प्रेरणा मिलती है ।

अत्यधिक प्रभावी लोगों की आदतें ( habits of highly effective people)


आपकी ज़िन्दगी बस यूँ ही नहीं घट जाती. चाहे आप जानते हों या नहीं , ये आपही के द्वारा डिजाईन की जाती है. आखिरकार आप ही अपने विकल्प चुनते हैं. आप खुशियाँ चुनते हैं . आप दुःख चुनते हैं.आप निश्चितता चुनते हैं. आप अपनी अनिश्चितता चुनते हैं.आप अपनी सफलता चुनते हैं. आप अपनी असफलता चुनते हैं.आप साहस चुनते हैं.आप डर चुनते हैं.इतना याद रखिये कि हर एक क्षण, हर एक परिस्थिति आपको एक नया विकल्प देती है.और ऐसे में आपके पास हमेशा ये opportunity होती है कि आप चीजों को अलग तेरीके से करें और अपने लिए और positive result produce करें. 


अत्यधिक प्रभावी लोगों की आदतें

Habit 1 : Be Proactive / प्रोएक्टिव बनिए

Proactive होने का मतलब है कि अपनी life के लिए खुद ज़िम्मेदार बनना. आप हर चीज केलिए अपने parents या grandparents को नही blame कर सकते .Proactive लोग इस बात को समझते हैं कि वो “response-able” हैं . वो अपने आचरण के लिए जेनेटिक्स , परिस्थितियों, या परिवेष को दोष नहीं देते हैं.उन्हें पता होताहै कि वो अपना व्यवहार खुद चुनते हैं. वहीँ दूसरी तरफ जो लोग reactive होते हैं वो ज्यादातर अपने भौतिक वातावरण से प्रभावितहोते हैं. वो अपनेbehaviour के लिए बाहरी चीजों को दोष देते हैं. अगर मौसम अच्छा है, तोउन्हें अच्छा लगता है.और अगर नहीं है तो यह उनकेattitude और performance को प्रभावित करता है, और वो मौसम को दोष देते हैं. सभी बाहरी ताकतें एक उत्तेजना की तरह काम करती हैं , जिन पर हम react करते हैं. इसी उत्तेजना और आप उसपर जो प्रतिक्रिया करते हैं के बीच में आपकी सबसे बड़ी ताकत छिपी होती है- और वो होती है इस बात कि स्वतंत्रता कि आप अपनी प्रतिक्रिया का चयन स्वयम कर सकते हैं.

एक बेहद महत्त्वपूर्ण चीज होती है कि आप इस बात का चुनाव कर सकते हैं कि आप क्या बोलते हैं.आप जो भाषा प्रयोग करते हैं वो इस बात को indicate करती है कि आप खुद को कैसे देखते हैं.एक proactive व्यक्ति proactive भाषा का प्रयोग करता है.–मैं कर सकता हूँ, मैं करूँगा, etc. एक reactive व्यक्ति reactive भाषा का प्रयोग करता है- मैं नहीं कर सकता, काश अगर ऐसा होता , etc. Reactive लोग सोचते हैं कि वो जो कहते और करते हैं उसके लिए वो खुद जिम्मेदार नहीं हैं-उनके पास कोई विकल्प नहीं है.

ऐसी परिस्थितियां जिन पर बिलकुल भी नहीं या थोड़ा-बहुत control किया जा सकता है , उसपर react या चिंता करने के बजाये proactive लोग अपना time और energy ऐसी चीजों में लगाते हैं जिनको वो control कर सकें. हमारे सामने जो भी समस्याएं,चुनतिया या अवसर होते हैं उन्हें हम दो क्षेत्रों में बाँट सकते हैं:

1)Circle of Concern ( चिंता का क्षेत्र )

2)Circle of Influence. (प्रभाव का क्षेत्र )

Proactive लोग अपना प्रयत्न Circle of Influence पर केन्द्रित करते हैं.वो ऐसी चीजों पर काम करते हैं जिनके बारे में वो कुछ कर सकते हैं: स्वास्थ्य , बच्चे , कार्य क्षेत्र कि समस्याएं.Reactive लोग अपना प्रयत्नCircle of Concern पर केन्द्रित करते हैं: देश पर ऋण , आतंकवाद, मौसम. इसबात कि जानकारी होना कि हम अपनी energy किन चीजों में खर्च करते हैं, Proactive बनने की दिशा में एक बड़ा कदम है


Habit 2: Begin with the End in Mind अंत को ध्यान में रख कर शुरुआत करें. 

तो, आप बड़े होकर क्या बनना चाहते हैं? शायद यह सवाल थोड़ा अटपटा लगे,लेकिन आप इसके बारे में एक क्षण के लिए सोचिये. क्या आप अभी वो हैं जो आप बनना चाहते थे, जिसका सपना आपने देखा था, क्या आप वो कर रहे हैं जो आप हमेशा से करना चाहते थे. इमानदारी से सोचिये. कई बार ऐसा होता है कि लोग खुद को ऐसी जीत हांसिल करते हुए देखते हैं जो दरअसल खोखली होती हैं–ऐसी सफलता, जिसके बदले में उससे कहीं बड़ी चीजों को गवाना पड़ा. यदि आपकी सीढ़ी सही दीवारपर नहीं लगी है तो आप जो भी कदम उठाते हैं वो आपको गलत जगह पर लेकर जाता है.

Habit 2 आपके imagination या कल्पना पर आधारित है– imagination , यानि आपकी वो क्षमता जो आपको अपने दिमाग में उन चीजों को दिखा सके जो आप अभी अपनी आँखों से नहीं देख सकते. यह इस सिधांत पर आधारित है कि हर एक चीज का निर्माण दो बार होता है. पहला mental creation,और दूसरा physical creation. जिस तरह blue-print तैयार होने केबाद मकान बनता है , उसी प्रकार mental creation होने के बाद ही physical creation होती है.अगर आप खुद visualize नहीं करते हैं कि आप क्या हैं और क्या बनना चाहते हैं तो आप, आपकी life कैसी होगी इस बात का फैसला औरों पर और परिस्थितियों पर छोड़ देते हैं. Habit 2 इस बारे में है कि आप किस तरह से अपनी विशेषता को पहचानते हैं,और फिर अपनी personal, moral और ethical guidelines के अन्दर खुद को खुश रख सकते और पूर्ण कर सकते हैं.अंत को ध्यान में रख कर आरम्भ करने का अर्थ है, हर दिन ,काम या project की शुरआत एक clear vision के साथ करना कि हमारी क्या दिशा और क्या मंजिल होनी चाहिए, और फिर proactively उस काम को पूर्ण करने में लग जाना.

Habit 2 को practice मेंलाने का सबसे अच्छा तरीका है कि अपना खुद का एक Personal Mission Statement बनाना. इसका फोकस इस बात पर होगा कि आप क्या बनना चाहते हैं और क्या करना चाहते हैं.ये success के लिए की गयी आपकी planning है.ये इस बात की पुष्टिकरता है कि आप कौन हैं,आपके goals कोfocus में रखता है, और आपके ideas को इस दुनिया में लाता है. आपका Mission Statement आपको अपनी ज़िन्दगी का leader बनाता है. आप अपना भाग्य खुद बनाते हैं, और जो सपने आपने देखे हैं उन्हें साकार करते हैं. 


Habit 3 : Put First Things First प्राथमिक चीजों को वरीयता दें

एक balanced life जीने के लिए, आपको इस बात को समझना होगा कि आप इस ज़िन्दगीमें हर एक चीज नहीं कर सकते. खुद को अपनी क्षमता से अधिक कामो में व्यस्त करने की ज़रुरत नहीं है. जब ज़रूरी हो तो “ना” कहने में मत हिचकिये, और फिर अपनी important priorities पर focus कीजिये.
Habit 1 कहती है कि , ” आप in charge हैं . आप creator हैं”. Proactive होना आपकी अपनी choice है. Habit 2 पहले दिमाग में चीजों को visualize करने के बारे में है. अंत को ध्यान में रख कर शुरआत करना vision से सम्बंधित है. Habit 3 दूसरी creation , यानि physical creation के बारे में है. इस habit मेंHabit 1 और Habit 2 का समागम होता है. और यह हर समय हर क्षण होता है. यह Time Management सेrelated कई प्रश्नों को deal करता है.
लेकिन यह सिर्फ इतना ही नहीं है.Habit 3 life management के बारे में भी है—आपका purpose, values, roles ,और priorities. “प्राथमिक चीजें” क्या हैं? प्राथमिक चीजें वह हैं , जिसको आप व्यक्तिगत रूप से सबसे मूल्यवान मानते हों. यदि आप प्राथमिक कार्यों को तरजीह देने का मतलब है कि , आप अपना समय , अपनी उर्जा Habit 2 में अपने द्वारा set की गयीं priorities पर लगा रहे हैं. 


Habit 4: Think Win-Win हमेशा जीत के बारे में सोचें

Think Win-Win अच्छा होने के बारे में नहीं है, ना ही यह कोई short-cut है. यह character पर आधारित एक कोड है जो आपको बाकी लोगों से interact और सहयोग करने के लिए है.
हममे से ज्यादातर लोग अपना मुल्यांकन दूसरों सेcomparison और competition के आधार पर करते हैं. हम अपनी सफलता दूसरों की असफलता में देखते हैं—यानि अगर मैं जीता, तो तुम हारे, तुम जीते तो मैं हारा. इस तरह life एक zero-sum game बन जाती है. मानो एक ही रोटी हो, और अगर दूसरा बड़ा हिस्सा ले लेता है तो मुझे कम मिलेगा, और मेरी कोशिश होगी कि दूसरा अधिक ना पाए. हम सभी येgame खेलते हैं, लेकिन आप ही सोचिये कि इसमें कितना मज़ा है?

Win -Win ज़िन्दगी कोco-operation की तरह देखती है, competition कीतरह नहीं. Win-Win दिल और दिमाग की ऐसी स्थिति है जो हमेंलगातार सभी काहित सोचने के लिए प्रेरित करती है.Win-Win का अर्थ है ऐसे समझौते और समाधान जो सभी के लिए लाभप्रद और संतोषजनक हैं. इसमें सभी खाने को मिलती है, और वो काफी अच्छाtaste करती है.

एक व्यक्ति या संगठन जो Win-Win attitude के साथ समस्याओं को हल करने की कोशिश करता है उसके अन्दर तीन मुख्य बातें होती हैं:

Integrity / वफादारी :अपनेvalues, commitments औरfeelings के साथ समझौता ना करना.
Maturity / परिपक्वता : अपनेideas औरfeelings को साहस के साथ दूसरों के सामने रखना और दूसरों के विचारों और भावनाओं की भी कद्र करना.
Abundance Mentality / प्रचुरता की मानसिकता :इस बात में यकीन रखना की सभी के लिए बहुत कुछ है.

बहुत लोगeither/or केterms में सोचते हैं: या तो आप अच्छे हैं या आप सख्त हैं.Win-Win में दोनों की आवश्यकता होती है. यह साहस और सूझबूझ के बीचbalance करने जैसा है.Win-Win को अपनाने के लिए आपको सिर्फ सहानभूतिपूर्ण ही नहीं बल्कि आत्मविश्वाश से लबरेज़ भी होना होगा.आपको सिर्फ विचारशील और संवेदनशील ही नहीं बल्कि बहादुर भी होना होगा.ऐसा करनाकि -courage और consideration मेंbalance स्थापित हो, यहीreal maturity है, औरWin-Win के लिए बेहद ज़रूरी है. 


Habit 5: पहले दूसरों को समझो फिर अपनी बात समझाओ.

Communication लाइफ की सबसे ज़रूरी skill है. आप अपने कई साल पढना-लिखना और बोलना सीखने में लगा देते हैं. लेकिन सुनने का क्या है? आपको ऐसी कौनसी training मिली है, जो आपको दूसरों को सुनना सीखाती है,ताकि आप सामने वाले को सच-मुच अच्छे से समझ सकें? शायद कोई नहीं? क्यों?
अगर आप ज्यादातर लोगों की तरह हैं तो शायद आप भी पहले खुद आपनी बात समझाना चाहते होंगे. और ऐसा करने में आप दुसरे व्यक्तिको पूरी तरह ignore कर देते होंगे , ऐसा दिखाते होंगे कि आप सुन रहे हैं,पर दरअसल आप बस शब्दों को सुनते हैं परउनके असली मतलब को पूरी तरह से miss कर जाते हैं.
सोचिये ऐसा क्यों होता है? क्योंकि ज्यादातर लोग इस intention के साथ सुनते हैं कि उन्हें reply करना है, समझना नहीं है.आप अन्दर ही अन्दर खुद को सुनते हैं और तैयारी करते हैं कि आपको आगे क्या कहना है,क्या सवाल पूछने हैं, etc. आप जो कुछ भी सुनते हैं वो आपकेlife-experiences से छनकर आप तक पहुचता है.
आप जो सुनते हैं उसे अपनी आत्मकथा से तुलना कर देखते हैं कि ये सही है या गलत. और इस वजह से आप दुसरे की बात ख़तम होने से पहले ही अपने मन में एक धारणा बना लेते हैं कि अगला क्या कहना चाहता है. क्या ये वाक्य कुछ सुने-सुने से लगते है?

“अरे, मुझे पता है कि तुम कैसा feel कर रहे हो.मुझे भी ऐसा ही लगा था.” “मेरे साथ भी भी ऐसा ही हुआ था.” ” मैं तुम्हे बताता हूँ कि ऐसे वक़्तमें मैंने क्या किया था.”

चूँकि आप अपने जीवन के अनुभवों के हिसाब से ही दूसरों को सुनते हैं. आप इन चारों में से किसी एक तरीके से ज़वाब देते हैं:

Evaluating/ मूल्यांकन:पहले आप judge करते हैं उसके बाद सहमत या असहमत होते हैं.
Probing / जाँच :आप अपने हिसाब से सवाल-जवाब करते हैं.
Advising/ सलाह :आप सलाह देते हैं और उपाय सुझाते हैं.

Interpreting/ व्याख्या :आप दूसरों के मकसद और व्यवहार को अपने experience के हिसाब से analyze करते हैं.
शायदआप सोच रहे हों कि, अपने experience के हिसाब से किसी से relate करने में बुराई क्या है? कुछ situations में ऐसा करना उचित हो सकत है, जैसे कि जब कोई आपसे आपके अनुभवों के आधार पर कुछ बतानेके लिए कहे, जब आप दोनों के बीच एक trust की relationship हो. पर हमेशा ऐसा करना उचित नहीं है.


Habit 6: Synergize / ताल-मेल बैठाना

सरल शब्दों में समझें तो , “दो दिमाग एक से बेहतर हैं ” Synergize करने का अर्थ है रचनात्मक सहयोग देना. यह team-work है. यह खुले दिमाग से पुरानी समस्याओं के नए निदान ढूँढना है.
पर ये युहीं बस अपने आप ही नहीं हो जाता. यह एक process है , और उसी process से, लोग अपनेexperience और expertise को उपयोग में ला पाते हैं .अकेले की अपेक्षा वो एक साथ कहीं अच्छाresult दे पाते हैं. Synergy से हम एक साथ ऐसा बहुत कुछ खोज पाते हैं जो हमारे अकेले खोजने पर शायद ही कभी मिलता. ये वो idea है जिसमे the whole is greater than the sum of the parts. One plus one equals three, or six, or sixty–या उससे भी ज्यादा.
जब लोग आपस में इमानदारी से interact करने लगते हैं, और एक दुसरे से प्रभावित होने के लिए खुले होते हैं , तब उन्हें नयी जानकारीयाँ मिलना प्रारम्भ हो जाता है. आपस में मतभेद नए तरीकों के आविष्कार की क्षमता कई गुना बढ़ा देते हैं.

मतभेदों को महत्त्व देना synergy का मूल है. क्या आप सच-मुच लोगों के बीच जो mental, emotional, और psychological differences होते हैं, उन्हें महत्त्व देते हैं? या फिर आप ये चाहते हैं कि सभी लोग आपकी बात मान जायें ताकि आप आसानी से आगे बढ़ सकें? कई लोग एकरूपता को एकता समझ लेते हैं. आपसी मतभेदों को weakness नहीं strength के रूप में देखना चाहिए. वो हमारे जीवन में उत्साह भरते हैं. 

Habit 7: Sharpen the Saw कुल्हाड़ी को तेज करें

Sharpen the Saw का मतलब है अपने सबसे बड़ी सम्पत्ति यानि खुद को सुरक्षित रखना. इसका अर्थ है अपने लिए एक प्रोग्राम डिजाईन करना जो आपके जीवन के चार क्षेत्रों physical, social/emotional, mental, and spiritual में आपका नवीनीकरण करे. नीचे ऐसी कुछ activities केexample दिए गए हैं:

Physical / शारीरिक :अच्छा खाना, व्यायाम करना, आराम करना
Social/Emotional /:सामजिक/भावनात्मक :औरों के ससाथ सामाजिक और अर्थपूर्ण सम्बन्ध बनाना.
Mental / मानसिक :पढना-लिखना, सीखना , सीखना.
Spiritual / आध्यात्मिक :प्रकृति के साथ समय बीताना , ध्यान करना, सेवा करना.

आप जैसे -जैसे हर एक क्षेत्र में खुद को सुधारेंगे, आप अपने जीवन में प्रगति और बदलाव लायेंगे.Sharpen the Saw आपको fresh रखता है ताकि आप बाकी की six habits अच्छे से practice कर सकें. ऐसा करने से आप challenges face करने की अपनी क्षमता को बढ़ा लेते हैं. बिना ऐसा किये आपका शरीर कमजोर पड़ जाता है , मस्तिष्क बुद्धिरहित हो जाता है, भावनाए ठंडी पड़ जाती हैं,स्वाभाव असंवेदनशील हो जाता है,और इंसान स्वार्थी हो जाता है. और यह एक अच्छी तस्वीर नहीं है, क्यों?

आप अच्छा feel करें , ऐसा अपने आप नहीं होता. एक balanced life जीने काअर्थ है खुद कोrenew करने के लिए ज़रूरी वक़्त निकालना.ये सब आपके ऊपरहै .आप खुद को आराम करकेrenew कर सकते हैं. या हर काम अत्यधिक करके खुद को जला सकते हैं . आप खुद को mentallyऔर spiritually प्यार कर सकते हैं , या फिर अपने well-being से बेखबर यूँ ही अपनी ज़िन्दगी बिता सकते हैं.आप अपने अन्दर जीवंत उर्जा का अनुभव कर सकते हैं या फिर टाल-मटोल कर अच्छे स्वास्थ्य और व्यायाम के फायदों को खो सकते हैं.

आप खुद को पुनर्जीवित कर सकते हैं और एक नए दिन का स्वागत शांति और सद्भावके साथ कर सकते हैं.या फिर आप उदासी के साथ उठकर दिन को गुजरते देख सकतेहैं. बस इतना याद रखिये कि हर दिन आपको खुद को renew करने का एक नया अवसरदेता है, अवसर देता है खुद को recharge करने का. बस ज़रुरत है Desire (इच्छा),Knowledge( ज्ञान)और Skills(कौशल) की. 

सफ़ेद बालो को जड़ से काला कर देगा यह नुस्खा


सही खानपान न होने या प्रदूषण भरे वातावरण के कारण भी कई बार बाल जल्दी सफ़ेद होने लग जाते है. ऐसे में नीचे दी विधि अपनाकर आप अपने बालों को फिर से काला और चमकदार बना सकते है.

सामग्री :- करी पत्ता, दही या छाछ
बनाने की विधि :- सबसे पहले 20 करी पत्तों को लेकर अच्छे से धो ले. फिर उन्हें मिक्सी में दही के 4-5 चम्मच के साथ पेस्ट तैयार कर ले. अब इस पेस्ट को पैक की तरह बालों की जड़ों में लगाएं. पहले
इससे 5 मिनिट तक मसाज करें. फिर इस पैक को बालों में 20 से 25 मिनिट तक लगाकर रखें. इसके बाद बालों को अच्छे से धो ले. आप इस पैक को महीने में दो बार अपने बालों में लगाते रहें. फिर देखें

कमाल, किस तरह आपके बाल हमेशा के लिए रहेंगे काले. डॉक्टर तक भी इस नुस्खे को मान गए है. फिर क्यों लगाना इन कैमिकल्स वाली डाई या कलर की.

आलू से भी करें काले बाल :- यह तरीका पौराणिक एवं कारगर है. आलू में पोटेशियम, आयरन और कैल्शियम पाया जाता है जो बालों को काला करने के अलावा यह उनको गिरने से बचता है, डेंड्रफ से निजात दिलाता है, बालों को मजबूत करता है और बालों को स्वस्थ रखता है.प्रयोग विधि :- दो-तीन आलू के छिलके निकालकर एक कप पानी में उबाल ले. ठंडा होने पर उसमे दो-तीन बूंदे लेवेंडर ऑइल की मिला ले. अब इस मिश्रण को बालों की जड़ों तक अच्छी तरह लगाकर 20 मिनिट के लिए छोड़ दे.फिर ठन्डे पानी से धो ले.


आयुर्वेदिक उपाय

सामग्री: नींबू, आमला पाउडर, साफ पानी।
विधि: नींबू के रस में, 2 चम्‍मच पानी और 4 चम्‍मच आमला पाउडर मिला कर पेस्‍ट बनाइये। 1 घंटे के लिये रख दें और फिर प्रयोग करें।

कैसे लगाएं: इस पेस्‍ट को 20-25 मिनट के लिये बालों और जड़ों में लगाएं और फिर सिर धो लें, लेकिन उस दिन शैंपू का प्रयोग ना करें।

ध्यान रखें ये बाते

बालों को धोते वक्‍त ध्‍यान रखें कि यह आपकी आंखों में ना जाए।
इस पेस्‍ट को हफ्ते में हर चौथे दिन प्रयोग करें। ऐसा करने से आपके सारे सफेद बाल एक ही महीने में काले होने लगेगें।
अगर हो सके तो, आयुर्वेदिक तेल, शैंपू और साबुन का ही प्रयोग करें।
बालों के लिये असली आमले का तेल प्रयोग करें।

हुक्के से धुम्रपान करा कर मरीजों का इलाज


यह तो हम सब जानते है कि धूम्रपान करना सेहत के लिए हानिकारक होता है। और हर जगह बड़े-बड़े अक्षरों में लिखा होता है कि धुम्रपान सेहत के लिए हानिकारक है। लेकिन जो व्यक्ति पहले से बीमार हों उनके लिए तो यह किसी जहर से कम नहीं होता हैं। लेकिन एक ऐसी जगह है जहां पर मरीजों को दवाइयों के रूप में हुक्का पीने के लिए दिया जाता है।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि मध्य प्रदेश के उज्जैन में एक ऐसा अस्पताल है, जहां डॉक्टर खुद मरीजों को पीने के लिए हुक्का देते हैं। इस अस्पताल के डॉक्टरों का मानना है कि उनके खास हुक्के को पीने से न सिर्फ दमे के मरीज बल्कि सायनस, सर्दी सहित सभी श्वांस के रोगों से मुक्ति मिल जाती है। लगातार हुक्के का काश लगा रहे ये लोग कोई अपने शोक के लिए किसी हुक्के बार में नहीं बैठे हैं, बल्कि ये सभी अपनी अपनी अलग अलग बीमारियों से पीड़ित होकर उज्जैन के आर्युवेदिक कालेज में अपना इलाज करवा रहे हैं।

दरअसल देश भर में हुक्के को भले ही गलत नजरों से देखा जाता है लेकिन उज्जैन के आयुर्वेदिक अस्पताल में अनोखे तरीके से मरीजों का इलाज किया जाता है। दरअसल संभवतः देश में पहली बार उज्जैन के शासकीय धन्वतरी आर्युवेदिक अस्पताल में हुक्के से धुम्रपान करा कर मरीजों का इलाज किया जा रहा है।

वही , अस्पताल का मानना है कि हुक्का पीने से कई लाइलाज बीमारियां ठीक हो जाती हैं। आपको बता दे कि यहां पर तंबाकू वाला हुक्का नहीं दिया जाता बल्कि इसमें तंबाकू की जगह पर जड़ी बूटियों का इस्तेमाल होता है।

बताया जाता है कि इन जड़ी बूटियों का धुआं सीधे शरीर के अंदर जाता है और मरीज को फायदा होता है।

इस अस्पताल के डॉक्टर निरंजन सर्राफ बताते हैं कि उनके पास देश के अलग-अलग हिस्सों से इलाज करवाने के लिए मरीज आते हैं और उनको इलाज से लाभ भी मिलता है। निरंजन ने दावा किया कि उनके अस्पताल का हुक्के पीने से दमा, जुखाम के अलावा फेफड़ों से जुड़ी हुई कई लाइलाज बीमारियां ठीक हो जाती हैं।

तुलसी की पत्तियां खाने के फायदे

आयुर्वेद में तुलसी तथा उसके विभिन्न औषधीय गुणों का एक विशेष उल्लेख है। तुलसी को संजीवनी बूटी के समान भी माना जाता है। तुलसी एक पवित्र जड़ी बूटी मानी जाती है और सदियों पहले से इसका इस्तेमाल कई तरह की बीमारियों को ठीक करने में होता आया है। कई घरों में रोजाना सुबह तुलसी के पेड़ की पूजा होती है। इसके सेवन से सर्दी-जुकाम समेत तमाम तरह की समस्याएं बहुत जल्दी ठीक हो जाती हैं। आयुर्वेद में तुलसी तथा उसके विभिन्न औषधीय गुणों का एक विशेष उल्लेख है। तुलसी को संजीवनी बूटी के समान भी माना जाता है।

हर रोग से छुटकारा दिलाएगी 1 कप तुलसी और हल्‍दी की चाय
आयुर्वेदिक चिकित्सा में तुलसी के पौधे के हर भाग को स्वास्थ्य के लिहाज से फायदेमंद बताया गया है।
तुलसी की जड़, उसकी शाखाएं, पत्ती और बीज सभी का अपना-अपना अलग महत्व है। इसमें एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं जो आपको तमाम तरह के इन्फेक्शन से बचाते हैं और स्वस्थ रहने में मदद करते हैं।
इस आर्टिकल में हम आपको तुलसी की पत्तियों के सेवन से होने वाले कुछ ख़ास फायदों के बारे में बता रहे हैं।

 
ब्लड को प्यूरीफाई करने में मददगार
तुलसी की पत्तियों के सेवन से शरीर में मौजूद हानिकारक टॉक्सिन बाहर निकलने लगते हैं। ये पत्तियां पूरे शरीर में ब्लड फ्लो को और बेहतर बनाती हैं जिससे सारे अंग ठीक ढंग से काम करते हैं। रिसर्च के अनुसार नियमित रूप से इन पत्तियों के सेवन से खून में लाल रक्त कोशिकाएं और सफ़ेद रक्त कोशिकाओं की मात्रा बढ़ जाती है। इसलिए रोजाना तुलसी की 8-10 पत्तियों को शहद के साथ मिलाकर सेवन करें। 
 
 
इम्युनिटी बढ़ाने में मददगार 
रोजाना तुलसी के सेवन से शरीर की इम्युनिटी पॉवर मजबूत होती है। इसके लिए आप तुलसी युक्त चाय का सेवन करें। इस चाय को पीने से सर्दी-खांसी या जुकाम से तुरंत आराम मिलता है। रोजाना जब भी चाय बनाये तो उसमें 4-5 तुलसी की पत्तियां ज़रूर डालें। 
 
 
स्ट्रेस दूर भगाने में मददगार 
अगर आप हर समय स्ट्रेस में रहते हैं और इससे छुटकारा पाना चाहते हैं तो तुलसी से बढ़िया और कुछ भी नहीं है। इन पत्तियों का रोजाना सेवन न सिर्फ आपके मेटाबोलिज्म को बेहतर करता है बल्कि इससे स्ट्रेस, एंग्जायटी और नींद से जुड़ी बीमारियों की समस्या कम हो जाती है। इसलिए रोजाना इन पत्तियों का सेवन ज़रूर करें।

 
ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद
ऊपर बताये हुए सारे फायदों के अलावा तुलसी की पत्तियां आपके ब्लड प्रेशर को भी नियंत्रित रखने में मदद करती हैं। इन पत्तियों में पोटैशियम, मैग्नीशियम और विटामिन सी की मात्रा काफी ज्यादा होती है जिससे ब्लड प्रेशर सामान्य रहता है। बेहतरीन परिणामों के लिए रोजाना 5-6 तुलसी की पत्तियां ज़रूर खाएं।

ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मदद 
तुलसी से रक्त में शुगर के स्तर को कंट्रोल किया जा सकता है। इन पत्तियों में एंटी डायबिटिक गुण होते हैं इसलिए तुलसी के रोज सेवन से इंसुलिन की संवेदनशीलता बढ़ती है और डायबिटीज होने का खतरा नहीं रहता है। रोजाना सुबह तुलसी की पत्तियां शहद के साथ खाना सबसे ज्यादा फायदेमंद है।

 
यूरिक एसिड को नियंत्रित रखने में मदद
जोड़ों में दर्द होना या किडनी की पथरी होने में सबसे मुख्य कारण यूरिक एसिड ही है। आपको बता दें कि तुलसी के सेवन से शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा कम होती है जिससे जोड़ों के दर्द से आराम मिलता है।

 
मेटाबोलिज्म बढ़ाने में मददगार
इन पत्तियों के सेवन से शरीर की इम्युनिटी पॉवर तो बढ़ती ही है साथ में बॉडी का मेटाबोलिज्म भी बेहतर होता है। इस वजह से आपका पाचन तंत्र ठीक से काम करने लगता है और पेट से जुड़ी बीमारियां खत्म हो जाती हैं।


साँसों से जुड़ी बीमारियों से राहत 
अगर आप रोजाना तुलसी के पत्तियों का सेवन करते रहें तो आपके शरीर का ब्लड फ्लो एकदम ठीक हो जाता है। इस वजह से शरीर के सभी अंगों को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन मिलने लगता है और वे ठीक ढंग से काम करने लगते हैं। अगर आपको सांसो से जुड़ी कोई समस्या है तो बेहतर होगा कि आप तुलसी की पत्तियों का सेवन शुरू कर दें। यह अस्थमा के मरीजों के लिए भी बहुत फायदेमंद है।

सिंह राशि - Leo Horoscope 2021

 Leo (July 23-August 22)
Leo Horoscope 2021: सिंह राशि के जातकों के लिए आर्थिक दृष्टि से ये साल ठीक-ठाक रहने वाला है। इस साल आप अपनी आमदनी और अपने परिवार के सहयोग से धन अर्जित कर पाने में सफलता हासिल करेंगे। छोटी-छोटी सफलताओं के साथ आप बड़ी सफलता की ओर भी कदम बढ़ाएंगे। अगर इस साल आप कोई बड़ा निवेश करने की सोच रहे हैं तो यहाँ आपको बहुत सोच-समझकर कदम उठाने की ज़रूरत है पढ़ाई में किसी भी तरह का शार्ट-कट ना लें अन्यथा नुकसान उठाना पड़ सकता है। ऐसे में केवल मेहनत करें तभी आपको उसका फल मिलेगा। इस साल सिंह जातकों की कुंडली में शनि और बृहस्पति देव छठे भाव में रहेंगे। ऐसे में ये स्थिति कई लोगों को मिले-जुले परिणाम दे सकती है। वैवाहिक जीवन और संतान के हिसाब से देखें तो सिंह राशि के जातकों का ये साल शुरुआती दिनों में तनावपूर्ण रहने वाला है।विदेश जाने की इच्छा रखने वाले छात्रों को इस वर्ष बहुत प्रयास करने के बाद ही सफलता मिलने की संभावना बनेंगी। आइए ज्योतिष शास्त्र से जानते हैं कि सिंह राशि वालों के लिए आने वाला वर्ष कैरियर, आर्थिक स्थिति, परिवार, प्रेम-रोमांस, शिक्षा और स्वास्थ्य के लिहाज से कैसा होगा।


कैरियर:

कैरियर के लिहाज से यह वर्ष आपके लिए अत्यधिक शुभ साबित होगा। राहु इस दौरान आप की राशि से दशम भाव में स्थित होगा जिसके चलते आपके करियर में अचानक प्रगति देखने को मिलेगी। कर्म भाव में राहु की मौजूदगी इस वर्ष आपके लिए ढेरों चुनौतियाँ लेकर आने वाले हैं। इसके अलावा इस वर्ष आप एक से अधिक स्रोतों से कमाई करने में भी कामयाब रहेंगे। इस साल मंगल आपके नौवें घर में स्थित है जिसके परिणाम-स्वरूप भाग्य आपके पक्ष में रहने वाला है और कार्यक्षेत्र में आप ढेरों तरक्की हासिल करने में कामयाब रहेंगे, साथ ही कार्यक्षेत्र पर आपके संबंधों में भी सुधार देखने को मिलेगा। मंगल की ग्यारहवें घर में मौजूदगी के कारण आपको अप्रैल और मई के महीनों के दौरान चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। लाख चुनौतियों और परेशानियों के बावजूद सिंह राशि के जातक अपनी कड़ी मेहनत के दम पर अपने करियर में नयी बुलंदियों को हासिल करेंगे, साथ ही वरिष्ठों के उचित मार्गदर्शन और समर्थन से आप अपने करियर में अच्छा प्रदर्शन भी करने में कामयाब रहेंगे।


आर्थिक स्थिति:

इस वर्ष सिंह राशि के जातकों को मिश्रित परिणाम हासिल होंगे। इस वर्ष ग्रहों की स्थितियाँ कुछ ऐसे रहने वाली है कि, बुध सूर्य के साथ बृहस्पति के घर में बैठा है जो इस बात को इंगित करता है कि यह साल आपके लिए फ़ायदेमंद साबित हो सकता है। जहां आपको पैसे कमाने के नए अवसर प्राप्त होंगे। अप्रैल का महीना आपके लिए सबसे ज्यादा अनुकूल होगा, क्योंकि इस दौरान आपको कई स्रोतों से आए प्राप्त होगी साथ ही इस दौरान आपकी आय में वृद्धि होने की भी संभावना बेहद अधिक है। पंचम भाव में सूर्य और बुध की युति बुधादित्य योग का निर्माण कर रही है। ऐसे में यह साल कागज़, कपड़े, और भोजन आदि से जुड़े लोगों के लिए बेहद लाभदायक साबित होगा। मई के महीने के बाद आपके ख़र्चों में वृद्धि होने लगेगी। ऐसे में आपको सलाह दी जाती है कि, जितना संभव हो सके एक साधारण जीवन शैली को अपनाए तो आपके लिए बेहतर साबित होगा।


परिवार:

यह साल सिंह राशि के जातकों के लिए पारिवारिक लिहाज से बेहद ही अनुकूल रहने वाला है। इस साल आप अपने पारिवारिक जीवन का खुल के आनंद लेंगे और आपको किसी बड़ी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। चौथे भाव में शुक्र और पांचवें भाव में सूर्य की स्थिति इस बात को इंगित करती है कि, इस दौरान आपके घर का पारिवारिक वातावरण बहुत अच्छा रहने वाला है। आप अपने पेशेवर जीवन में अत्यधिक व्यस्त होने के बावजूद अपने परिवार के प्रति अपनी सभी जिम्मेदारियों को बेहद ही कुशलता से निभाने में कामयाब रहेंगे। इस दौरान आपको अपने जीवन साथी का पूरा सहयोग प्राप्त होगा।आपकी माता जी का इस वर्ष विशेष ख्याल रखें। आपके वैवाहिक जीवन का स्वामी शनि सप्तम भाव में बृहस्पति के साथ युति में स्थित है, जो दर्शाता है कि, इस दौरान आपको अपने वैवाहिक जीवन में कुछ उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ सकता है। इस साल में अप्रैल से लेकर सितंबर तक का महीना आपके लिए थोड़ा अनुकूल साबित होगा। इस दौरान आपके वैवाहिक रिश्ते में मधुरता आएगी, और ऐसा आप दोनों की आपसी समझ और ग़लतफ़हमी को अपने रिश्ते से दूर रखने की वजह से मुमकिन हो पायेगा, जिसका प्रभाव सीधे तौर पर आपके बच्चों के जीवन पर दिखाई देगा।


प्रेम-रोमांस:

इस वर्ष आपको अपने प्यार के मामलों में वांछित परिणाम हासिल करने के लिए अत्यधिक मेहनत और प्रयास डालने की जरूरत है और तभी आप अपने प्यार में मन-चाहा परिणाम हासिल कर सकेंगे। सिंह राशि के जातकों के लिए प्रेम और रोमांस का स्वामी बृहस्पति उनके छठे भाव में है और वहीं सूर्य आपके पांचवें भाव में है, जो इस बात को इंगित करता है कि आपके रिश्ते में इस दौरान किसी बड़े-बुजुर्ग के हस्तक्षेप की वजह से समस्याएं आ सकती हैं। इस अपने प्रेम जीवन या विवाहित जीवन में कुछ बदलाव की उम्मीद करेंगे। इस दौरान ऐसा भी मुमकिन है कि आप अपने मौजूदा पार्टनर या जीवनसाथी के प्रति थोड़ा उखड़ा-उखड़ा और कम प्रतिबद्ध महसूस करें और आप अपने लिए प्रेम के लिहाज से बेहतर विकल्प ढूंढने के लिए अपने रिश्ते से बाहर भटक सकते हैं। आप अपने रिश्ते में कुछ नए क्षेत्रों और विकास की संभावनाएं तलाश सकते हैं। यह समय अपने प्रियजनों के साथ बातचीत करने और आप दोनों के बीच की आपसी समझ को बढ़ाने के लिए बेहद शुभ साबित होगा। इसके अलावा बृहस्पति का गोचर आपके जीवन के काम को काफी हद तक प्रभावित करेगा। बृहस्पति का यह परिवर्तन आपकी मजबूत प्रवृत्ति और भावनाओं द्वारा शासित रहने वाला है।


शिक्षा:

शिक्षा के लिहाज़ से इस वर्ष सिंह जातकों को मिश्रित परिणाम हासिल होंगे। शिक्षा का शासक मकर राशि के छठे भाव में स्थित है, इसलिए आपको सफलता तो मिलेगी लेकिन बेहद अधिक परिश्रम और प्रयास करने के बाद ही। इसके अलावा इस राशि के जो छात्र प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी या फिर उच्च शिक्षा प्राप्त करने का विचार बना रहे हैं उनके लिए अप्रैल से सितंबर का महीना कुछ चुनौती-पूर्ण साबित हो सकता है, इसलिए आपको पहले से ही सलाह दी जाती है कि आप अत्यधिक सावधान रहें और कड़ी मेहनत पर ध्यान केंद्रित करें, क्योंकि इस वर्ष शिक्षा के लिए आपको जो भी हासिल होगा वह आपकी कड़ी मेहनत पर ही हासिल किया जा सकता है। कृपया करके भाग्य के भरोसे कुछ भी ना छोड़े। अप्रैल का महीना छात्रों के लिए काफी शुभ साबित होगा। हालांकि इसके बाद मई जून-जुलाई और अगस्त के महीने आपके लिए कुछ चुनौती-पूर्ण साबित हो सकते हैं।


स्वास्थ्य:

इस वर्ष सिंह राशि के जातकों के लिए स्वास्थ्य के लिहाज़ से समय अनुकूल रहने वाला है। इस वर्ष-भर आप ऊर्जा-वान महसूस करेंगे और जैसे-जैसे समय आगे बढ़ेगा आप अपनी जीवन शक्ति में इज़ाफा महसूस करेंगे। सलाह दी जाती है कि आप संतुलित आहार का सेवन करें, खुद को शारीरिक तौर पर थकान देने से बचें और धूम्रपान और शराब आदि के सेवन से दूरी बनाकर रखें। इस वर्ष पंचम भाव में स्वास्थ्य के स्वामी बुधादित्य योग बना रहे हैं इसलिए सिंह राशि वालों के लिए वर्ष 2021 स्वास्थ्य के लिहाज़ से बेहद ही अच्छा रहने वाला है। इस वर्ष के कुछ महीने जैसे जनवरी, फरवरी और मार्च के महीनों में आपको छोटी-मोटी समस्याएं, जैसे गले में खराश या बुखार इत्यादि हो सकती है लेकिन साल के बाकी महीने सेहत के लिहाज से बेहद ही अच्छे रहेंगे। आपके छठे घर में शनि और बृहस्पति की मौजूदगी उन लोगों के लिए चिंताजनक साबित हो सकती है जिन्हें पहले से ही कोई एलर्जी, उच्च रक्तचाप या जोड़ों में दर्द की समस्या है। इस दौरान आपकी ऊर्जा शक्ति में उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकता है।


ज्योतिष उपाय:

प्रतिदिन चावल, रोली या गुड़ और लाल फूल डालकर सूर्य देवता को जल अर्पित करें। लड्डू गोपाल की पूजा-पाठ करें। माता-पिता की सेवा और उनका सम्मान करें। शनिवार के दिन सरसों के तेल में खुद की प्रतिमा को देखकर छाया दान करें।


डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। '

कर्क राशि - Cancer Horoscope 2021

Cancer (March 21-April 19)
Cancer Horoscope 2021: कर्क राशि के जातकों के लिए ये साल करियर की दृष्टि से अच्छे परिणामो को लेकर आएगा। क्योंकि जहाँ साल की शुरुआत में मंगल ग्रह कर्क राशि के नौकरीपेशा जातकों को अपने कार्यस्थल पर तरक्की दिलाएंगे। वहीं, दूसरी तरफ व्यापार करने वाले जातकों को शनि और बृहस्पति की सप्तम भाव में उपस्थिति अनुकूल परिणाम दिलाएगी। आर्थिक जीवन की बात करें तो साल की शुरुआत बेहतर साबित होगी, मार्च से मई के दौरान स्थितियाँ काफी बदल जाएँगी, इस समय आपको अधिक आर्थिक लाभ होने की संभावनाएं हैं। खेल जगत व सिनेमा से जुड़े जातकों को इस साल विदेश की यात्राओं और विदेश में आयोजित होने वाली प्रतियोगिताओं में भाग लेने पर अच्छी सफलताएं मिल सकती हैं। दाम्पत्य जीवन में साथी के साथ किसी बात को लेकर के झगड़ा हो सकता है। इस दौरान आपका जीवन साथी धर्म-कर्म के कार्य में अधिक वक्त बिताता नज़र आएगा। वहीं यदि आप किसी से प्रेम करते हैं तो, आपके लिए यह वर्ष बेहद अच्छा रहने वाला है। आइए ज्योतिष शास्त्र से जानते हैं कि कर्क राशि वालों के लिए आने वाला वर्ष कैरियर, आर्थिक स्थिति, परिवार, प्रेम-रोमांस, शिक्षा और स्वास्थ्य के लिहाज से कैसा होगा।


कैरियर:

इस वर्ष कर्म के स्वामी मंगल आपके दसवें घर में स्थित रहेंगे। जिसके परिणामस्वरूप इस वर्ष आपको पदोन्नति मिलने की प्रबल संभावना है, जिससे आपके कार्यस्थल में प्रगति के काफी आसार हैं। इसके अलावा इस समय के दौरान नौकरी की तलाश कर रहे लोग भी सफलता प्राप्त करेंगे, लेकिन इस वर्ष सबसे ज्यादा फायदा उन लोगों को होगा जो सरकारी नौकरियों में हैं। इस पूरे साल भर शनि आपकी राशि से सप्तम भाव में रहेगा, जो आपके करियर के लिए फ़ायदेमंद साबित होने वाला है। कर्क राशि के जातकों के लिए इस साल के शुभ महीने जनवरी, फरवरी, मार्च और अप्रैल के होने वाले हैं। इस साल रसायन, शिक्षा और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र से जुड़े व्यवसाय करने वाले जातकों को उनके काम में सफलता हासिल होगी। हालांकि अप्रैल से सितंबर तक के महीने के दौरान आपको बेहद ही सतर्क रहने की आवश्यकता है, क्योंकि इस अवधि के दौरान आपके भाग्य में गिरावट आ सकती है।


आर्थिक स्थिति:

आर्थिक पक्ष के लिहाज से कर्क राशि के जातकों के लिए यह साल अच्छा साबित होने वाला है क्योंकि आय और पारिवारिक जीवन के स्वामी सूर्य छठे भाव में बुध के साथ युति में मौजूद हैं, जो दर्शाता है कि आर्थिक लिहाज से आपके लिए यह समय बेहद ही शुभ रहने वाला है। आपको इस वर्ष काफी मुनाफ़ा हासिल होगा। इसके अलावा आपके व्यवसाय में वृद्धि और विकास होने के भी प्रबल संभावना है। जैसा कि छठा घर दुश्मनों का भी घर कहा जाता है, इसलिए इस वर्ष आपके दुश्मन आपके हर काम में अड़चन पैदा करने की कोशिश करेंगे, लेकिन आपको अपने दुश्मनों पर जीत हासिल होगी। पंचम भाव में शुक्र और ग्यारहवें घर में राहु की स्थिति इस बात की तरफ संकेत दे रही है कि, इस साल आपको ढेरों मुनाफ़ा या लाभ हासिल होगा। आपको इस दौरान उन क्षेत्रों में भी सफलता मिलेगी जिसका आप लंबे समय से इंतजार कर रहे थे। इसके अलावा अगर आप शेयर मार्केट में निवेश करना चाहते हैं तो उसके लिए भी समय शुभ साबित होगा। हालांकि जनवरी से अप्रैल तक का समय आपके लिए भाग्य के लिहाज से थोड़ा कम अनुकूल साबित हो सकता है। अपनी आर्थिक स्थिति का उचित ध्यान रखें।


परिवार:

इस साल की शुरुआत कुछ खास अच्छी नहीं रहने वाली है। इसके साथ ही मकर राशि में सप्तम भाव में मौजूद शनि आपके चौथे घर को दृष्टि दे रहा होगा, जिसके कारण आपके पारिवारिक जीवन में सुख की कमी महसूस की जा सकती है। इसके अलावा इस दौरान आपको अपने परिवार से समर्थन या सहयोग भी प्राप्त करना थोड़ा मुश्किल होगा, जिससे आपके व्यक्तिगत जीवन में तनाव पैदा होने की प्रबल आशंका है। 06 अप्रैल को कुंभ राशि में बृहस्पति का गोचर पारिवारिक दृष्टिकोण से आपके लिए अनुकूल साबित होगा। इस दौरान आपके भाई खुश रहेंगे और सफलता हासिल करेंगे। आपके परिवार का माहौल खुशहाल और सुखद होगा। इसके अलावा इस दौरान आपके परिवार में कुछ नए सदस्यों के शामिल होने की भी प्रबल संभावना है। इस वर्ष आपको अनुकूल परिणाम प्राप्त होंगे, क्योंकि इस साल शनि और बृहस्पति आपके सप्तम भाव में मौजूद रहेंगे। जिसके परिणामस्वरूप आपको वैवाहिक जीवन में ठीक-ठाक परिणाम मिलेगा। साथ ही दंपतियों के बीच कुछ ग़लतफ़हमी पैदा हो सकती है, साथ ही वे इस वर्ष के दौरान भावनात्मक रूप से कमजोर रहने वाले हैं। हालाँकि आपको सलाह दी जाती है कि यदि आप अपने बच्चों के व्यवहार में कोई परिवर्तन नज़र भी आता है तो उनके साथ ज्यादा सख्त ना हों। आपका सकारात्मक दृष्टिकोण उनके आत्मविश्वास को बढ़ाएगा और साथ ही उनको हर काम को बेहतर तरीके से करने में सक्षम बनाने में मदद करेगा।


प्रेम-रोमांस:

आपकी राशि में प्रेम और संबंध के घर के स्वामी मंगल का शुक्र और केतु पांचवें घर में दृष्टि दे रहा है, जो आपके प्रेम जीवन में बाधा लाने का कारण बन सकता है। जिसके परिणाम स्वरूप प्रेमी जातकों के बीच के संबंध थोड़े तनावपूर्ण हो सकते हैं। साथ ही आप दोनों के बीच कुछ ग़लतफहमी भी पैदा हो सकती है। हालांकि वहीं दूसरी तरफ़ यह समय उन लोगों के लिए अच्छा होने वाला है जो अपने लिए पार्टनर की तलाश कर रहे हैं। मार्च के मध्य से प्रेमी जातकों के जीवन में कुछ समस्याएं खड़ी हो सकते हैं, लेकिन इसके बाद मार्च के मध्य से लेकर अप्रैल तक का समय आपके प्रेम जीवन के अनुकूल रहेगा। इस अवधि के दौरान आप अपने पार्टनर के ज्यादा करीब आएँगे और उनके साथ सब कुछ साझा करने में ज्यादा सक्षम महसूस करेंगे। इस समय के दौरान प्रेम में पड़े जातक थोड़ा तनाव में वृद्धि महसूस कर सकते हैं, इसीलिए आपको सलाह दी जाती है कि समय-समय पर अपने साथी के साथ अपने बीच खड़े हुए किसी भी विवाद और ग़लतफहमी को हल करते रहें।


शिक्षा:

इस वर्ष आपको आपके परिश्रम और कर्म के आधार पर परिणाम हासिल होंगे, क्योंकि मंगल आप के दसवें घर में स्थित है और शुक्र और केतु युति में साल की शुरुआत में आपके पांचवें घर में मौजूद रहने वाले हैं। जो इस बात की तरफ इशारा करता है कि, इस दौरान आपको अपनी पढ़ाई में बहुत कठिन परिश्रम करने की आवश्यकता होगी, क्योंकि केतु की स्थिति के चलते आपका मन विचलित रहेगा और आप अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाएंगे। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए इस साल जनवरी और अगस्त के महीने सबसे ज्यादा अनुकूल रहने वाले हैं। इस दौरान आपको अपनी कड़ी मेहनत के अनुसार परिणाम प्राप्त होगा। उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहे छात्रों को सितंबर से नवंबर के बीच की अवधि की तुलना में अप्रैल के महीने में शुभ परिणाम हासिल होंगे। ऐसे में यदि आप वांछित परिणाम हासिल करना चाहते हैं तो, इस वर्ष अपनी कड़ी मेहनत और लगन के साथ पढ़ाई करें जिससे आपको मनवांछित फल अवश्य ही प्राप्त होंगे।


स्वास्थ्य:

इस साल आपको मिश्रित परिणाम हासिल होंगे। चूंकि शनि सातवें और आठवें घर का स्वामी इस वर्ष आपकी राशि से सातवें घर में होगा और आप के नौवें और चौथे घर को दृष्टि दे रहा होगा। ग्रहों की यह स्थिति आपके जीवन में स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों की वजह बन सकती हैं, इसलिए आपको विशेष सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है। वहीं दूसरी तरफ स्वास्थ्य ग्रह का स्वामी चंद्रमा कर्क राशि में स्थित है जो कि कर्क राशि के उन जातकों के लिए काफी अच्छा साबित होगा जो किसी बीमारी से जूझ रहे हैं क्योंकि लंबे समय से किसी बीमारी से पीड़ित ऐसे जातकों की परेशानियों का अंत होगा। स्वास्थ्य के लिहाज से यह समय आपके लिए अनुकूल साबित होगा। आपके विचारों में सकारात्मकता की भावना पैदा होगी। आपके लग्न भाव पर बृहस्पति और शनि का संयुक्त पहलू होगा जिसके परिणाम स्वरूप आप एक उचित और स्वस्थ आहार अपने जीवन में शामिल करेंगे और किसी विशेषज्ञ के मार्गदर्शन में ध्यान और योग सीख सकते हैं। स्वास्थ्य संबंधी परेशानी से बचने के लिए स्वस्थ और शाकाहारी भोजन करने की कोशिश करें।


ज्योतिष उपाय:

रोज सुबह सूर्य को जल अर्पित करें। इस जल में थोड़ा सा गुड़ मिला लें। भगवान शिव को अक्षत अर्पित करें और शिवलिंग का अभिषेक करें।


डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। '

मिथुन राशि - Gemini Horoscope 2021

 Gemini (April 20-May 20)
Gemini Horoscope 2021: मिथुन राशि वालों के लिए इस वर्ष आर्थिक जीवन बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता क्योंकि मिथुन राशि वालों के बृहस्पति और शनि अष्टम भाव में युति बनाएंगे। शनि साल भर इसी भाव में विराजमान रहेंगे, जिससे आपको धन हानि होने के योग बनेंगे। प्रत्येक कार्य में देरी और बिघ्न की स्थिति बनेगी, बृहस्पति और शनि के गोचर के चलते आर्थिक हानि होने की भी संभावना अधिक है। यह समय आपके लिये थोड़ा संभलकर चलने का समय है। ऐसा न हो गलत संगत में पड़कर आप अपना नुक्सान कर बैठें। अनावश्यक खर्च बढ़ने से भी आपकी फाइनेंशियल कंडीशन थोड़ी कमजोर हो सकती है। इस समय जितना हो सके अनावश्यक खर्चों, अनावश्यक कर्ज़ों से बचने का प्रयास करें। इस वर्ष राहु का गोचर वृषभ राशि में होने से आपके खर्चों में अप्रत्याशित वृद्धि होगी जिसके कारण आपको कुछ फाइनैंशल समस्याओं से जूझना पड़ सकता है। आइए ज्योतिष शास्त्र से जानते हैं कि मिथुन राशि वालों के लिए आने वाला वर्ष कैरियर, आर्थिक स्थिति, परिवार, प्रेम-रोमांस, शिक्षा और स्वास्थ्य के लिहाज से कैसा होगा।


कैरियर:

इस वर्ष आपको करियर के मामले में काफी सोच समझकर कदम उठाने की आवश्यकता है। करियर में उन्नति के लिये इस दौरान आपको अपनी कार्यशैली में कुछ नये बदलाव करने होंगे। इस वर्ष छठे भाव में केतु के होने से विरोधियों द्वारा आपके रास्ते में मुश्किलें खड़ी की जा सकती हैं लेकिन वह आपको किसी भी तरीके से कोई बड़ी हानि नहीं पंहुचा सकते हैं। यह वर्ष आपको करियर के क्षेत्र में नई ऊचाइंयों पर लेकर जा सकता है। जो जातक इस साल सरकारी नौकरी पाने के लिये प्रयास कर रहे हैं उन्हें अपने प्रयास में सफलता मिल सकती है। जो जातक स्वयं का व्यवसाय खड़ा करना चाहते हैं उनके लिये भी यह साल काफी अच्छा रहने के आसार हैं। व्यवसाय के क्षेत्र में आपकी कोई बड़ी मनोकामना पूरी होने की सम्भावना है। इस साल कारोबार में कोई नया प्रस्ताव मिलने के योग भी बनेंगे। करियर को लेकर बहुत अच्छे अवसर मिलने वाले हैं बस जरूरत है तो इन अवसरों को समय रहते पहचनाने की।


आर्थिक स्थिति:

इस वर्ष आपका आर्थिक जीवन बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता क्योंकि मिथुन राशि वालों के बृहस्पति और शनि अष्टम भाव में युति बनाएंगे। शनि साल भर इसी भाव में विराजमान रहेंगे, जिससे आपको धन हानि होने के योग बनेंगे। प्रत्येक कार्य में देरी और विघ्न की स्थिति बनेगी, बृहस्पति और शनि के गोचर के चलते आर्थिक हानि होने की भी संभावना अधिक है। ऐसे में किसी भी तरह के लेन-देन को करते समय विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है।यह समय आपके लिये थोड़ा संभलकर चलने का समय है। ऐसा न हो गलत संगत में पड़कर आप अपना नुक्सान कर बैठें। अनावश्यक खर्च बढ़ने से भी आपकी फाइनेंशियल कंडीशन थोड़ी कमजोर हो सकती है। इस समय जितना हो सके अनावश्यक खर्चों, अनावश्यक कर्ज़ों से बचने का प्रयास करें। साल के अंतिम महीनों में शेयर मार्किट, अकाउंट, फाइनेंस सेक्टर से जुड़े जातकों को काफी लाभ मिलेगा। आपकी इकॉनोमिकल कंडीशन इस समय काफी अच्छी होने के आसार हैं।


परिवार:

नया साल आपके पारिवारिक जीवन के लिये काफी अच्छा कहा जा सकता है। इस वर्ष आपके घर में सुख-सुविधाओं में बढ़ोतरी होने से परिवार में भी खुशियां बरकार रहेंगी। वर्षारम्भ में कुंटुंब स्थान के स्वामी मंगल अपने ही स्थान में हैं जिससे परिवार में संपत्ति को लेकर कोई विवाद चल रहा है, तो वह शांत हो जायेगा। संतान पक्ष की ओर से भी आपको शुभ समाचार मिल सकते हैं। पारिवारिक दृष्टिकोण से यह समय आपके लिए अच्छा साबित होगा। कोई पुराना पारिवारिक विवाद यदि चल रहा है तो इस वर्ष उसे सुलझाने के लिये आप जो प्रयास कर रहे हैं वे रंग ला सकते हैं। बड़े बुजुर्गों की सलाह व उनके आशीर्वाद से पैतृक संपत्ति से आपको लाभ मिलेगा। वैवाहिक मामलों में यह साल मिथुन राशि के लोगों के लिए कई ढेरो सारी खुशियां लेकर आ रहा है, इस साल आपके बहुत से सपने हकीकत में बदलते हुए नजर आएंगे, लव लाइफ इस साल बहुत ही शानदार रहने वाली है। वर्ष आरम्भ में ही जब शुक्र का गोचर आपकी राशि के सप्तम भाव में होगा तो आपके और आपके जीवनसाथी के बीच प्रेम की भावनाओं का संचार होगा।


प्रेम-रोमांस:

मिथुन राशि के जातको को इस वर्ष अच्छे फलों की प्राप्ति होगी। जो अविवाहित प्रेमी जातक विवाह के इच्छुक हैं उनके लिये विवाह के योग बन रहे हैं। यह समय आपकी रोमांटिक लाइफ के लिये काफी अच्छा व उपलब्धियों भरा कहा जा सकता है। आपको सलाह दी जाती है हर मोड़ पर अपने साथी का साथ निभाते रहिये और अपने रिश्ते में पारदर्शिता बनाए रखिये। इस वर्ष शनि और बृहस्पति की युति आपके पार्टनर की सेहत पर प्रभाव डाल सकती है इसलिए अपने जीवन साथी या प्रेमी की सेहत का ख्याल अवश्य रखें। और आप अपने रिश्ते को इतना मजबूत बना लें कि विपरीत परिस्थितियों में भी उसमें कोई परेशानी उत्पन्न ना हो। यदि आपका जीवनसाथी कार्यरत है तो इस वर्ष में उन्हें कोई विशेष पदोन्नति प्राप्त हो सकती है।


शिक्षा:

मिथुन राशि वालों के लिए यह वर्ष शिक्षा के लिहाज से सकारात्मक परिणाम देगा। हालांकि बीच में अनेकों अवसर ऐसे भी आएँगे जब आपका अपनी शिक्षा के प्रति मन नहीं लगेगा या एकाग्रता में कमी आएगी। उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहे लोगों को इस वर्ष कुछ फायदा हो सकता है। आप शिक्षा के लिए विदेश जा सकते हैं।| इसके अतिरिक्त अनेक लोगों की उच्च शिक्षा की अभिलाषा भी पूरी होगी पर कुछ अड़चने भी देखने को मिलेंगी क्यूंकि वर्ष की शुरुआत से ही बृहस्पति मकर राशि में होगा इसलिए उन्हें अनेक चुनौतियों का सामना भी करना पड़ेगा। यदि आप प्रतियोगिता परीक्षाओं की तयारी कर रहे हैं और उसमे सफलता प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको कड़ी मेहनत करने की आवश्यकता होगी। उच्च शिक्षा प्राप्त करने में बाधाएं उत्पन्न तो जरूर होंगी, लेकिन आपकी मेहनत का फल भी आपको जरूर मिलेगा।


स्वास्थ्य:

वर्ष की शुरुआत से ही मिथुन राशि वालों के अष्टम भाव में शनि और बृहस्पति की युति तथा आपके छठे भाव में छाया ग्रह केतु की उपस्थिति आपके स्वास्थ्य से जुड़ी समस्या पैदा कर सकती हैं। स्किन व पेट संबंधी दिक्कतों से आपको जूझना पड़ सकता है। इस समय उदर संबंधी रोगों से पीड़ित रह सकते हैं। आपका मूड भी हो सकता है खराब रहे। खान-पान की आदतों में कुछ परिवर्तन करने पड़ सकते हैं। मानसिक तौर पर यह समय आपके लिये चिंताओं वाला रह सकता है। शनि का गोचर आपके अष्टम भाव में रहने से किसी बड़ी बीमारी के जन्म लेने की संभावना उत्पन्न हो सकती है। लापरवाही न बरतें, लक्षण दिखाई देते ही चिकित्सकीय परामर्श अवश्य लें।जुलाई के बाद का समय आपके स्वास्थ्य के लिए काफी अनुकूल रह सकता है और इस दौरान आप की पुरानी बीमारियों में भी राहत मिलेगी। बदलते हुए मौसम में भी अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें और यदि मौसमी बीमारियों से पीड़ित हैं, तो आप जल्द ही स्वस्थ हो जाएंगे।


ज्योतिष उपाय:

बुधवार के दिन हरे रंग के वस्त्र या चूड़ियां भेंट करें। गौ माता को चारा अथवा हरी सब्ज़ियाँ खिलाएं। लाल की जगह भोजन में हरी मिर्च का सेवन करें।

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। '

वृषभ राशि - Taurus Horoscope 2021

 Taurus (May 21- June 21)
Taurus Horoscope 2021: वृषभ राशि वालों के लिए यह साल आपके लिये नई सफलताएं और उपलब्धियों वाला रहेगा। 2021 में वैवाहिक जीवन और व्यापार में सफलता मिलने के भी योग आपके लिये बना रहा है। इस वर्ष आपको अपने मार्ग में आने वाले विभिन्न विकल्पों का चुनाव करना होगा और सही वक्त पर सही अपॉर्च्युनिटी हासिल करनी होगी तभी आप एक अच्छे वर्ष का आनंद ले पाएंगे। शनिदेव पूरा वर्ष भाग्य स्थान में ही विराजमान रहेंगे, जो कि आपके भाग्य की वृद्धि करने का कार्य करेंगें। वृषभ राशि के जातक प्यार के मामले में बहुत रोमांटिक होते हैं और किसी को प्रेम करते हैं तो दिल की गहराई से करते हैं। इस वर्ष आपको कुछ कठिन निर्णय भी लेने पड़ सकते हैं जो संभवतया आपको दुख दे सकते हैं। लेकिन आप में वह काबिलियत है कि आप अपने मनोबल से हर परिस्थिति से बाहर निकल सकते हैं और खुद को सक्षम बना सकते हैं। आइए ज्योतिष शास्त्र से जानते हैं कि वृषभ राशि वालों के लिए आने वाला वर्ष कैरियर, आर्थिक स्थिति, परिवार, प्रेम-रोमांस, शिक्षा और स्वास्थ्य के लिहाज से कैसा होगा।


कैरियर:

इस साल आपको कठिन परिश्रम करने की आवश्यकता है। तभी सफलता हाथ लगेगी। इस वर्ष आपके कर्म भाव का स्वामी शनि इस पूरे साल आपकी राशि के नवम भाव में विराजमान रहेंगे, जिससे आपका भाग्य उदय होगा और करियर के क्षेत्र में आपको भरपूर सफलता मिलेगी। शनि देव की यह स्थिति आपका मनचाहा ट्रांसफर दिलाने में मदद करेगी।लेकिन प्रत्येक कार्य विलम्ब से होगा। इस पुरे वर्ष राहु का वृषभ राशि में होना आपकी प्रतिभा को बढ़ाएगा। आपके लिये अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करने के अवसर भी यह समय लेकर आ सकता है। कार्यस्थल पर आपका प्रदर्शन काफी सराहनीय रहेगा। इस दौरान आपको अपने वरिष्ठ अधिकारियों से अच्छे संबंध स्थापित करने होंगे क्योंकि उनका पूरा ध्यान आप पर ही रह सकता है। ऐसे में आपकी जरा सी चूक आपको परेशानी में डाल सकती है। कुछ छुपे हुए दुश्मन आपके ऑफिस में समस्याएं उत्पन्न कर सकते हैं। आप अपनी मेहनत के दम पर उन्नति के नए शिखर पर पहुंचेंगे।


आर्थिक स्थिति:

यह साल आपके लिए कुछ चुनौतीपूर्ण रहने की संभावना है। वर्ष की शुरुआत से ही धन लाभ के साथ खर्चे भी अधिक होंगे, इसलिए धन का निवेश बहुत ही सोच-समझकर करें। इस वर्ष यदि आपको आवश्यकता होगी तो अपने ससुराल पक्ष से भी आर्थिक सहायता प्राप्त हो सकती है। लेकिन उन से सहायता तभी ले जब आपको अति आवश्यक महसूस हो। इस समय धन प्राप्ति के नये स्त्रोत भी आप तलाश सकते हैं। नौकरी करने वाले जातकों के लिये वेतन में वृद्धि तो व्यवसायी जातकों के लिये बिजनेस में धन लाभ के योग बन रहे हैं। राहु का आपकी राशि के प्रथम भाव में विराजमान होने और राहु के कृतिका नक्षत्र में उपस्थित होने से आपको व्यापार के क्षेत्र में धनलाभ होने के प्रबल योग हैं। साथ ही व्यापारी वर्ग के जातकों को दीर्घकालीन धनलाभ भी प्राप्त होने की संभावना है।


परिवार:

वृषभ राशि के जातकों का पारिवारिक जीवन अधिक अनुकूल नहीं रहने की संभावना है। क्योंकि आपको अपने पारिवारिक जीवन में शुरुआत में तनाव महसूस होगा। जिससे आपके पारिवारिक सुख में भी कमी आएगी। आपको इस दौरान जरूरत पड़ने पर, पारिवारिक सहयोग नहीं प्राप्त होगा। इससे आपका मन उदास रह सकता है। इस समय आपको थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता रहेगी। वर्ष के मध्य तक परिस्थितियां बेहतर होती दिखाई देंगी और आप किसी संपत्ति खरीदने का विचार कर सकते हैं। इस दौरान आपका परिवार के लोगों से मन-मुटाव भी खत्म हो जायेगा। आपकी राशि से सप्तम भाव में केतु की उपस्थिति आपके शादीशुदा जीवन में बहुत सी समस्याओं को उत्पन्न करेगी। आपको इस समय अपनी वाणी पर संयम रखना होगा, अन्यथा इस दौरान आप अपने शब्दों से जीवनसाथी को कुछ ऐसा कह देंगे, जिससे विवाद बढ़ेगा। इस दौरान आपका ससुराल पक्ष के लोगों से झगड़ा हो सकता है अथवा आपके जीवनसाथी द्वारा अपने मायके का पक्ष लेने के कारण आप दोनों के बीच अनबन हो सकती है।


प्रेम-रोमांस:

प्रेम जीवन में इस वर्ष मिले-जुले परिणाम देखने को मिलेंगे। इस वर्ष आपको अपने रिलेशनशिप को लेकर तनाव रह सकता है और आप दबाव भी महसूस कर सकते हैं। हालांकि, समय के साथ-साथ आपकी लव लाइफ में उतार-चढ़ाव भी देखने को मिलेंगे। संभव है कि आपका साथी आपको आपकी ज़रूरत के अनुसार समय न दे पाए, हालांकि इसके बावजूद भी आप दोनों अपने हर विवाद और आपस की नाराजगी को समय-समय पर सुलझाने के लिए प्रयास करते दिखाई देंगे।इस वर्ष के अंत में आपको अपने प्रेम जीवन और उसके भविष्य के बारे में एक महत्वपूर्ण निर्णय लेने की आवश्यकता होगी। यदि आप सिंगल है तो आपके जीवन में कोई दस्तक देगा और आप एक नए रिश्ते में सम्मिलित हो जाएंगे। आप अपने रिश्ते को एक नई रचनात्मकता देंगे और उसको मजबूत बनाएंगे। यदि आप पहले से ही रिलेशनशिप में है तो आप अपने रिश्ते में स्थिरता को महत्व देते हुए अपने साथी से सभी गिले-शिकवे दूर करके अपने प्रेम जीवन को मधुर बना पाने में सफल होंगे।


शिक्षा:

वृषभ राशि के छात्रों के लिए ये साल थोड़ा परेशानी भरा रह सकता है क्योंकि आपके लिए साल की शुरुआत थोड़ी कमजोर रहेगी। अनेक चुनौतियों का सामना भी करना होगा और इन चुनौतियों से लड़कर ही उन्हें सफलता प्राप्त होगी। इसलिए आपको इस समय अपनी पढ़ाई का विशेष ध्यान रखने की ज़रूरत होगी। यदि आप प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं में सफलता प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको पूरे समय कड़ी मेहनत करनी होगी। उच्च शिक्षा प्राप्त करने के मार्ग में बाधाएं उत्पन्न तो जरूर होंगी, लेकिन आपकी मेहनत रंग भी जरूर लाएगी। उच्च शिक्षा पाने वाले छात्रों को भी अच्छे अवसरों की प्राप्ति होगी| उच्च शिक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए भी, ये समय अच्छा रहेगा। शुरुआत से अप्रैल और फिर सितंबर के दौरान का समय आपके लिए कुछ समस्या आने के योग बनेंगे।
 

स्वास्थ्य:

इस वर्ष आपका स्वास्थ्य उतार-चढ़ाव से भरा रहेगा। आपको अपने स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देना होगा, काम और आराम के बीच में संतुलन स्थापित करें। इस साल की शुरुआत आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत शुभ नहीं है। मार्च से जुलाई तक का समय स्वास्थ्य के लिहाज से सही नहीं है| इस दौरान आपको घुटनों में दर्द, जोड़ों में दर्द, गठिया, अपच जैसी समस्याएं परेशान कर सकती हैं| इस समय आपको अपने किसी पुराने रोग से मुक्ति मिलेगी जिससे आपकी सेहत में सुधार साफ़ देखने को मिलेगा। वर्ष के मध्य से आप अच्छे स्वास्थ्य का आनंद लेंगे। आपको अक्सर घबराहट की शिकायत रह सकती है इसलिए समय-समय पर चिकित्सीय परामर्श अवश्य लेते रहें ताकि अपने अच्छे स्वास्थ्य का आनंद ले पाएं।


ज्योतिष उपाय:

9 वर्ष से छोटी कन्याओं को भोजन कराए और उनके चरण छूकर प्रतिदिन उनका आशीर्वाद लें। शुक्रवार के दिन सफेद मिठाई का दान करें। शनिवार के दिन चीटियों को आटा डालें और गौ-माता की सेवा करें।


डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। '

मेष राशि - Aries Horoscope 2021

 Aries (March 21-April 19)
Aries Horoscope 2021: मेष राशि वाले जातकों के लिये वर्ष 2021 काफी अच्छा रहेगा। इस वर्ष मुख्य रूप से आपके करियर और बिजनेस में सफलता प्राप्त होगी, ये साल मुख्य रूप से आपके करियर के लिए काफी अच्छा रहने वाला है क्योंकि इस साल आपको अपने करियर में कर्मफल दाता शनि देव की अपार कृपा प्राप्त होगी। जो आपके आर्थिक जीवन को खुशहाल बनाने में मदद करेगी। इस वर्ष आपकी इच्छाएं पूरी हो सकती हैं जिससे आप प्रसन्न-चित्त रहेंगे और बहुत समय से अटकी हुई कोई योजना पूर्ण हो जाएगी जिससे आपको अच्छा धन लाभ होगा। आपका पारिवारिक जीवन समस्याओं से घिरा रहेगा। वर्ष की शुरुआत से जुलाई तक आपको पारिवारिक सुख मिलने में मुश्किलें आ सकती हैं। संभावना है कि कार्य के चलते आपको उनसे दूर जाना पड़े, जिससे आपका निजी जीवन सबसे ज्यादा प्रभावित दिखाई देगा। माता-पिता और भाई-बहनों के लिए समय अच्छा नहीं रहेगा। स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना इस वर्ष करना पड़ सकता है। आइए ज्योतिष शास्त्र से जानते हैं कि मेष राशि वालों के लिए आने वाला वर्ष कैरियर, आर्थिक स्थिति, परिवार, प्रेम-रोमांस, शिक्षा और स्वास्थ्य के लिहाज से कैसा होगा।


कैरियर:

करियर उन्नति के संकेत कर रहा है। इसका कारण है कि आपकी राशि से कर्मभाव के स्वामी शनिदेव हैं जिन्हें स्वयं कर्मफल दाता, न्यायप्रिय, दंडाधिकारी कहा जाता है। कर्मभाव में ही विराजमान हैं जिससे आपको शुभ फलों की प्राप्ति होगी। ऐसे में शनि देव का यह प्रभाव आपके लिए सबसे बेहतर साबित होगा। ग्रहों की स्थिति इस समय आपको पूर्व के अनुसार बेहतर परिणाम प्रदान करेगी। जो जातक स्वयं का व्यवसाय करने के इच्छुक हैं उनके लिये भी यह वर्ष अच्छा रहेगा। इस समय आप स्वयं को साबित कर सकते हैं। अपनी क्षमताओं का, अपनी स्किल का भरपूर प्रयोग कर इस बेहतर समय व अवसरों का लाभ आप उठा सकते हैं। इस वर्ष गुरु शनि के साथ कर्मभाव में विराजमान हैं। यह आपके लिये नीच भंग राजयोग भी कर्मभाव में बना रहे हैं। कोई बड़ी जिम्मेदारी आपको इस समय मिल सकती है। पिछले समय में की गई मेहनत का फल भी आपको इस समय मिल सकता है।


आर्थिक स्थिति:

मेष राशि के अनुसार इस वर्ष आर्थिक रुप से उन्नति के अनेक अवसर आपके सामने आएंगे और आप अच्छा धन लाभ प्राप्त कर पाने में सफल होंगे। गुरु आपकी राशि के एकादश भाव में विराजमान होंगे, जिससे आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार होगा और आपकी आमदनी को फायदा पहुंचेगा। गुरु इस समय आपकी कई मानसिक परेशानियां भी दूर करने का कार्य करेंगे। इस वर्ष आप की आर्थिक स्थिति काफी बेहतर रहने वाली है और आप समय पड़ने पर अपने मित्रों और रिश्तेदारों की आर्थिक सहायता करेंगे। नौकरी करने वाले लोगों को अधिक लाभ मिलेगा। उन्हें मनचाही नौकरी प्राप्त होने से भी अच्छे धन लाभ के स्रोत जुड़ेंगे। वर्ष के अंतिम महीनों में अत्यधिक खर्च होने से आपकी फाइनेंशियल कंडीशन पर थोड़ा सा असर पड़ सकता है। लेकिन उसके बाद फिर से आपकी स्थिति पहले की भांति मजबूत हो जाएगी और आप एक अच्छे आर्थिक जीवन का आनंद लेंगे।


परिवार:

इस वर्ष आपको पारिवारिक जीवन में उतार-चढ़ावों का सामना करना पड़ सकता है। क्योंकि शनि देव मेष राशि से दशम भाव में स्थित होकर पुरे वर्ष आपकी राशि के चौथे भाव को दृष्ट करेंगे, जिससे आपको पारिवारिक सुख में कमी महसूस होगी। पिता के साथ आपके वैचारिक मतभेद हो सकते हैं। किसी महत्वपूर्ण मसले पर घर के किसी बड़े बुजुर्ग का साथ आपको मिल सकता है। राहु मेष राशि वालों के परिवार भाव में स्थित रहेंगे। इस दौरान आपको अलर्ट रहने की आवश्यकता होगी। यह वर्ष आपके दांपत्य जीवन के लिए मिश्रित परिणाम देने वाला सिद्ध होगा। इस वर्ष वैवाहिक जीवन में धैर्य बनाए रखें। वर्ष के अंत में ससुराल पक्ष से कुछ कहासुनी हो सकती है। संतान को उपलब्धि हासिल होगी, जिससे दांपत्य जीवन में सकारात्मक बदलाव देखने को मिलेंगे। इस दौरान संतान के योग भी बनेंगे यदि आपका जीवनसाथी वाहन चलाता है तो, उनके साथ कोई दुर्घटना हो सकती है। ऐसे में इस दौरान उनका ध्यान रखें।


प्रेम-रोमांस:

यह वर्ष मेष राशि के लोगों के प्रेम जीवन के लिए मिश्रित परिणाम लेकर आएगा। यदि आप पहले से ही किसी प्रेम संबंध में हैं तो इस वर्ष आप की उम्मीदें अपने प्रियतम से कुछ अधिक होंगी जिस कारण कभी-कभी आप दोनों के बीच तकरार हो सकती है। परंतु अप्रैल से सितंबर का समय आपके प्रेम जीवन के लिए बेहद खास साबित होगा। इस दौरान आप दोनों एक दूसरे के प्रेम में लिप्त नजर आएंगे और आप दोनों विवाह करने का फैसला तक ले सकते हैं। लेकिन इन सब के बावजूद भी आप दोनों का प्रेम अटूट रहेगा और आपका रिश्ता पूरे वर्ष अच्छे से चलता रहेगा। यदि आप पहले से किसी रिलेशनशिप में नहीं है तो इस महीने में आपकी इच्छा भी पूरी हो सकती है और आपके जीवन में किसी का आगमन हो सकता है।


शिक्षा:

शिक्षा के क्षेत्र में जनवरी से मार्च तक कई छात्रों का मन पढ़ाई में लगेगा और उन्हें सफलता मिलेगी। ऐसे में आपको अपनी मेहनत करते रहने की आवश्यकता होगी। आप अपनी खराब संगत की ओर ज्यादा ध्यान ना देते हुए अपने काम से काम रखने की कोशिश करें। वर्ष के अंतिम महीनों में आपके एकादश भाग में मौजूद गुरु भी आपको अच्छे परिणाम देंगे। इसलिए यदि आप विदेश जाने का सपना देख रहे हैं तो, आपकी पंचम राशि में बृहस्पति की ये शुभ दृष्टि आपको मनपसंद स्कूल और कॉलेजों में दाख़िला दिलाने का कार्य करेगी। फरवरी से मार्च और सितंबर माह आपके लिए बेहद अनुकूल सिद्ध होंगे और इस दौरान आप को प्रतियोगी परीक्षा में सफलता मिल सकती है। इस वर्ष मंगल देव का गोचर 6 सितंबर से 22 अक्टूबर के दौरान, आपकी राशि के छठे भाव में होगा। इस समय छात्रों को भरपूर सफलता मिलेगी।


स्वास्थ्य:

इस वर्ष आपका स्वास्थ्य मिला-जुला रहने वाला है, यदि आप किसी लम्बी बीमारी से ग्रस्त हैं तो इस वर्ष आपको इससे छुटकारा मिल सकता है। लेकिन आपके लिए आवश्यक होगा कि आप काम के साथ-साथ थोड़ा आराम भी करें अन्यथा आप को अत्यधिक थकान हो जाएगी और उसका प्रभाव आपकी शारीरिक क्षमता पर पड़ेगा। यूं तो आप पूरे समय चुस्ती-फुर्ती से भरे रहेंगे लेकिन फिर भी जुलाई के बाद आपको अपने भोजन पर ध्यान देना होगा। गरिष्ठ भोजन से बचकर रहें। साल के मध्य में अपने पिता के स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है। इस दौरान आप प्रत्येक कार्य को पूरी शक्ति के साथ करने का प्रयास करेंगे और एक अच्छे स्वास्थ्य का आनंद लेंगे।


ज्योतिष उपाय:

हनुमान जी की आराधना करें। हनुमान चालीसा या सुन्दरकाण्ड का पाठ करें । प्रत्येक मंगलवार व शनिवार को सुंदरकांड का पाठ करें।


डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। '

मीन राशि - Pisces Horoscope 2021

 Pisces (Feb 19-March 20)
Pisces Horoscope 2021: मीन राशि के जातकों को नववर्ष में करियर के मामले में अनुकूल परिणाम हासिल होंगे। आप इस दौरान अपने कार्यक्षेत्र में अच्छा करेंगे, आपको अपने सहकर्मियों का साथ मिलेगा और वो अपनी उच्च अवस्था में होते हुए आपको सहयोग करते दिखाई देंगे। आपको इस समय अपने अधिकारियों और अपने सहकर्मियों से बेहतर संबंध बनाकर चलने की ज़रूरत होगी। तभी आपके अधिकारी आपकी मेहनत को देख पाएंगे। नौकरी पेशा जातकों को कार्यक्षेत्र में भाग्य का साथ मिलेगा और उनकी उन्नति और तरक्की होगी, इसलिए अपने प्रयास और अपनी मेहनत जारी रखें। इस वर्ष ना केवल आपको अपने कार्य में तरक्की मिलेगी, बल्कि काम के इस वजह से ही आपका मान-सम्मान भी बढ़ेगा।

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक मीन राशि के जातकों के भाई-बहनों को स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां हो सकती हैं। परिवार के बुजुर्गों तथा समाज के सम्मानित व्यक्तियों का आपको सानिध्य मिलेगा और उनके संरक्षण में आप काफी अच्छे कार्य करेंगे, जिसके कारण ना केवल आपके मान-सम्मान में वृद्धि होगी, आपको उन्नति प्राप्त होगी। स्वास्थ्य के लिहाज से समय सामान्य से बेहतर रहने वाला है क्योंकि इस वर्ष ग्रह स्थिति अनुकूल रहेगी, लेकिन आपको अप्रैल से सितंबर तक के मध्य थोड़ा ध्यान देने की ज़रूरत होगी।


करियर

इस वर्ष मीन राशि के जातकों को अनुकूल परिणाम मिलेंगे क्योंकि इस दौरान आपके करियर के भाव के स्वामी गुरु बृहस्पति आपकी राशि के एकादश भाव में उपस्थित होंगे, जहाँ वो शनि के साथ युति करेंगे। इसके परिणामस्वरूप आपको अपनी मेहनत का भरपूर लाभ मिल सकेगा। साल की शुरुआत में जहां आपको मनचाही नौकरी मिलने के भी योग बनेंगे, वहीं अगर आप प्रशासनिक सेवाओं या सरकारी नौकरियों में अपनी किस्मत आजमाना चाहते हैं, तो यह समय अवधि आपके लिए बेहद अनुकूल रहने वाली है। जहां तक व्यापारी जातकों की बात है, तो व्यापार के भाव के स्वामी बुध देव सूर्य के साथ मिलकर इस दौरान "बुधादित्य योग" का निर्माण करेंगे, इसलिए यह साल आपके व्यापार और बिज़नेस के लिए सबसे अच्छा सिद्ध हो सकता है। परंतु इस वर्ष बिना जांच किए किसी पर भी भरोसा करने से बचें। भोजन, रत्न और कपड़ों के व्यापार से जुड़े जातकों को इस वर्ष बहुत मुनाफ़ा मिलेगा। नवंबर माह के दौरान कुछ जातकों को कार्यक्षेत्र से संबंधित किसी विदेशी यात्रा पर जाने का अवसर भी मिल सकता है।


आर्थिक स्थिति

इस वर्ष आपको वित्त संबंधी मामलों में शुभ फलों की प्राप्ति होगी क्योंकि साल की शुरुआत में ही गुरु बृहस्पति और शनि की आपके एकादश भाव में युति आपको निरंतर आय का प्रवाह प्रदान करने में मदद करेगी। जिसके कारण आप अपना धन संचय करते हुए अपनी आर्थिक स्थिति को और अधिक मजबूत कर सकेंगे। मंगल ग्रह धन और परिवार का प्रतिनिधित्व करता है और उनकी कृपा भी आपको आर्थिक लाभ देने में मदद करेगी। इससे आपकी हर प्रकार की आर्थिक समस्याओं का बहुत ही जल्द अंत हो सकेगा। इस वर्ष के दौरान शनि आपके एकादश भाव में उपस्थित होंगे, जो आपके ख़र्चों के भाव के स्वामी भी होते हैं। ऐसे में आप अपने संसाधनों और धन का ज्यादा खर्च, अपनी विलासिता, विदेशी यात्राओं व अन्य सुख-सुविधाओं पर करेंगे। इसके अलावा अन्य क्षेत्रों पर आपका धन कम ख़र्च होगा। घर-परिवार में हो रहे किसी शुभ कार्यक्रम पर भी आपको कुछ ख़र्चा करना पड़ सकता है। हालांकि मध्य सितंबर के बाद आपको अपने लंबे समय से अटके हुए किसी धन की प्राप्ति होने से अचानक लाभ मिलने के योग भी बनते नजर आ रहे हैं।


परिवार

इस वर्ष मीन राशि के जातकों को अपने पारिवारिक जीवन में अनुकूल परिणाम मिलेंगे क्योंकि आपके और परिवार के सदस्यों के बीच चल रहा हर मतभेद समाप्त होगा, जिससे आपको एक दूसरे के साथ संबंध बेहतर करने में मदद मिलेगी। साल की शुरुआत में पारिवारिक जीवन सुखी और समृद्ध बनेगा और इससे आपको घर में शांति की अनुभूति होगी। फरवरी माह के दौरान वृषभ राशि में मंगल का गोचर आपके और परिवार के सदस्यों के रिश्तों में मजबूती और निकटता लाएगा। परिणामस्वरूप इस दौरान आप जो भी काम करेंगे, उसमें आपको भाई-बहन, विशेष रूप से अपने छोटे भाई का पूरा सहयोग मिलेगा। कई ग्रहों के शुभ प्रभाव से आप परिवार के सदस्यों या अपनी मेहनत के कारण अगस्त और नवंबर में नया घर खरीदने का प्लान भी कर सकते हैं। साल के मध्य में आपके और जीवनसाथी के बीच कुछ झगड़े और ग़लतफहमी पैदा होने की आशंका रहेगी। ऐसे में आपको इस दौरान एक-दूसरे पर पूर्ण विश्वास रखने की सलाह दी जाती है। कई मीन राशि के जातकों के जीवन में किसी नन्हें मेहमान का आगमन भी संभव है।


प्रेम संबंध

प्रेम संबंध में इस वर्ष मीन राशि के जातकों को मिश्रित परिणाम मिलेंगे क्योंकि प्रेम और रोमांस के पंचम भाव पर शनि की दृष्टि का प्रभाव, इस वर्ष प्रेमी जातकों के रिश्ते में कई चुनौतियां लेकर आएगा। इस दौरान आप पर गुरु बृहस्पति की कृपा भी होगी। विशेष रूप से इस साल के शुरुआती महीने प्रेम संबंधों लिए सामान्य से कम ही अच्छे रहेंगे। ऐसे में आपको सलाह दी जाती है कि अपने गुस्से पर नियंत्रण रखें, एक दूसरे पर विश्वास करें।


जुलाई में बुध का कर्क राशि में होने वाला गोचर प्रेम संबंधों के लिए अच्छा होगा। खासतौर पर अगर आप लंबे समय से किसी प्रेम संबंध में हैं, तो आपके रिश्ते में इस दौरान नयापन आने की संभावना है। सितंबर में प्रेम संबंधों में चुनौतियां भी आ सकती हैं।


शिक्षा

इस वर्ष कई छात्र उच्च शिक्षा ग्रहण करने का फैसला भी ले सकते हैं। परंतु, आपके पंचम भाव पर शनि देव की दृष्टि कुछ छात्रों की पढ़ाई में रुकावटें उत्पन्न करने का मुख्य कारण बनेगी। आपको शुरुआत से ही खुद को अपनी पढ़ाई-लिखाई के प्रति केंद्रित रहने और अपनी मेहनत जारी रखने की सलाह दी जाती है। हालांकि, अप्रैल तक पंचम भाव पर गुरु बृहस्पति की सकारात्मक दृष्टि विधार्थियों को हर परीक्षा में सफलता प्रदान करेगी। वो जातक जो अभी तक बेरोज़गार हैं, उन्हें सितंबर के बाद नौकरी मिलने के योग बन रहे हैं। खुद पर आत्मविश्वास रखने की ज़रूरत होगी। परंतु आपको ये सलाह भी दी जाती है कि इस दौरान खुद पर ज़रूरत से ज्यादा आत्मविश्वास न करें, अन्यथा ऐसा करना आपके लिए बहुत हानिकारक साबित हो सकता है।


स्वास्थ्य

इस वर्ष मीन राशि के जातकों को अपनी सेहत में अनुकूल परिणाम मिलेंगे क्योंकि ग्रहों की स्थिति वर्ष की शुरुआत में आपके स्वास्थ्य जीवन पर सकारात्मक प्रभाव डालेगी। मीन राशि के जातक वर्ष शुरुआत में मानसिक रूप से संतुष्ट रहते हुए हर कार्य को योजना अनुसार सफलता के साथ पूरा करते दिखाई देंगे। यदि आप पहले से किसी पुरानी बीमारी से पीड़ित नहीं हैं, तो वर्ष भर आप बेहतर स्वस्थ्य जीवन का आनंद उठा सकेंगे। हालांकि अप्रैल में आपके द्वादश भाव में गुरु बृहस्पति के गोचर से कुछ छोटी-मोटी स्वास्थ्य संबंधी परेशानी संभव है, इसलिए आपको सेहत के लिहाज से अगस्त माह तक सतर्क रहने की सलाह दी जाती है। ऐसे में अपने अच्छे स्वास्थ्य के लिए सही और स्थिर दैनिक दिनचर्या के साथ-साथ अच्छी भोजन की आदतों को अपनाने की कोशिश करें। इस वर्ष आपको मौसम जनित रोग विकसित होने की आशंका भी है।


ज्योतिष उपाय

घर से निकलते हुए सदैव अपनी जेब में एक पीला साफ़ रुमाल ज़रूर रखें। हनुमान जी की आराधना और बजरंग बाण का पाठ करें। शनिवार के दिन छाया दान करें।

कुंभ राशि - Aquarius Horoscope 2021

Aquarius (Jan 20-Feb 18)
Aquarius Horoscope 2021: नववर्ष 2021 में कुंभ राशि वालों को कुछ चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा और आपको मिश्रित परिणामों की प्राप्ति होगी। व्यापार करने वाले जातकों को कार्यक्षेत्र के संबंध में किसी यात्रा पर जाने का मौका मिलेगा। इस साल आपकी नौकरी में स्थानांतरण के योग भी बन रहे हैं। आर्थिक जीवन में अचानक से खर्च में वृद्धि नजर आएगी, जिसके चलते कुछ समय के लिए आर्थिक तंगी महसूस होगी। अपनी मेहनत अनुसार फल की प्राप्ति होगी, इसलिए मेहनत पर विश्वास करना अधिक उचित रहेगा| विद्यार्थियों को इस साल अधिक मेहनत करनी होगी। हालांकि अपने देश में शिक्षा प्राप्त करने वालों की इच्छा पूरी हो सकती है।

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक इस वर्ष आपको अपने स्वास्थ्य पर विशेष रुप से ध्यान देना होगा क्योंकि स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं आपको परेशान कर सकती हैं। इस साल अनेक यात्राएं होंगी, जिनमें से कुछ में आपको मनोवांछित परिणाम प्राप्त होंगे। हालांकि आपकी आमदनी अच्छी रहेगी, लेकिन अत्यधिक ख़र्चों की वजह से वित्तीय समस्या उत्पन्न हो सकती है। विदेश जाने के इच्छुक लोगों की मुराद इस साल पूरी हो सकती है। आपका पारिवारिक जीवन उतार-चढ़ाव से भरा रहेगा। वहीं दूसरी ओर दांपत्य जीवन में भी कभी खुशी कभी गम का माहौल रहेगा। अपने जीवनसाथी से अच्छा तालमेल बनाए रखें।


करियर

कुंभ राशि वाले व्यापारियों और नौकरी पेशा जातकों के लिए ये वर्ष थोड़ा प्रतिकूल रहेगा। आपको अपने करियर में सफलता प्राप्त करने के लिए अतिरिक्त मेहनत और निरंतर प्रयास करना होगा। ऐसे में इस समय कोई भी नया व्यापार शुरू करने से बचें। आपके करियर के भाव के स्वामी मंगल है, जो अपने स्वंय के तीसरे भाव में मौजूद है। साथ ही वृश्चिक राशि में शुक्र और केतु की युति दशम भाव में होने से इस वर्ष आपको कुछ संघर्ष करना पड़ सकता है। जो जातक पहले से नौकरी कर रहे है, उन्हें इच्छानुसार शुभ परिणाम प्राप्त होंगे। परंतु यदि आप किसी नई नौकरी से जुड़े हैं, तो आपको इस समय थोड़ी अधिक मेहनत करनी होगी। मध्य वर्ष उन जातकों के लिए फ़ायदेमंद साबित होगा, जो सरकारी नौकरी की तैयारी करना चाहते हैं।


आर्थिक स्थिति

कुंभ राशि के जातकों के आर्थिक जीवन के लिए यह वर्ष अनुकूल नहीं रहेगा क्योंकि धनु के स्वामी गुरु बृहस्पति, इस दौरान आपके द्वादश भाव में होंगे, इसलिए आर्थिक स्थिति में सुधार के लिए आपकी निर्भरता भाग्य के बजाय आपकी कड़ी मेहनत पर अधिक होगी। धन प्राप्ति के स्रोत इस दौरान सबसे अधिक बाधित होंगे, जिसके कारण आप अपना धन संचय करने में पूरी तरह असफल सिद्ध होंगे। इस वर्ष आपको सबसे अधिक निवेश से जुड़े मामलों से सावधानी बरतने की आवश्यकता होगी। ऐसे में जोखिम भरे किसी भी व्यवसाय में धन का निवेश न करें क्योंकि इस साल आपको अचानक से नुकसान होने के योग बनते दिखाई दे रहे हैं। आपके ख़र्चों के स्वामी शनि इस दौरान गुरु बृहस्पति के साथ आपके द्वादश भाव में युति करेंगे। ऐसे में आपको इस साल किसी भी कार्य में अपने प्रयास, ऊर्जा और समय लगाने से पहले उसके बारे में ठीक से सोच-विचार करने की ज़रूरत होगी।


परिवार

यह वर्ष पारिवारिक जीवन में आपको मिले-जुले परिणाम देगा। राहु इस वर्ष आपके चतुर्थ भाव में उपस्थित होंगे, जिसके कारण आपको काम के चलते अपने घर से दूर जाना पड़ सकता है। इसके परिणामस्वरूप, आप अपने परिवार को पर्याप्त समय देने में असमर्थ होंगे और इससे कुछ मतभेद भी उत्पन्न होने की आशंका है। फरवरी के महीने में शुक्र देव का गोचर आपको महिलाओं के साथ अपने संबंध बेहतर करने के कई अवसर देगा। जिससे आप अपने परिवार की महिलाओं के साथ अपने मजबूत और बेहतर संबंध विकसित कर सकेंगे। अप्रैल में मेष राशि में बुध का होने वाला गोचर आपके और भाई-बहनों के संबंधों में कुछ तनाव उत्पन्न करने का मुख्य कारण बनेगा। इसके साथ ही चौथे भाव में मंगल देव का गोचर आपकी मां के लिए तनाव और चिंता का कारण बन सकता है। ऐसे में आपको इस दौरान अपने व्यवहार में सुधार करने की ज़रूरत होगी। जो लोग काफी समय से अपनी शादीशुदा जिंदगी को लेकर चिंतित थे, उनके लिए साल का ये समय भावनात्मक रूप से रिश्ते को मजबूती देगा।


प्रेम संंबंध

इस राशि के जातकों को प्रेम संबंधों में अनुकूल परिणाम मिलेंगे क्योंकि आपके प्रेम और रोमांस के भाव के स्वामी वर्ष की शुरुआत में ही लाभ और आय के भाव में मौजूद होंगे। जिसके कारण कुंभ राशि के प्रेमी जातकों को इस समय अपने रिश्ते के प्रति अधिक गंभीर और प्रतिबद्ध होने में मदद मिलेगी। इसके साथ ही कुंभ राशि में गुरु बृहस्पति का गोचर, उनके प्रेम जीवन में सकारात्मक परिणाम लाएगा क्योंकि इस दौरान गुरु बृहस्पति की दृष्टि आपके पंचम भाव पर होगी। वो प्रेमी जातक जो लंबे समय से अपने रिश्ते के प्रति प्रतिबद्ध हैं, उन्हें इस वर्ष प्रेम विवाह के बंधन में बंधने के अवसर मिलेंगे।


शिक्षा

आपके शिक्षा के स्वामी बुध इस वर्ष आपकी राशि के एकादश भाव में सूर्य के साथ युति करते हुए आपकी राशि में "बुधादित्य योग" का निर्माण करेंगे। इसके परिणामस्वरूप यह वर्ष निश्चित रूप से कुम्भ राशि के छात्रों को शिक्षा के क्षेत्र में बहुत सफलता देगा। प्रतियोगी परीक्षाओं या सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे विद्यार्थियों को राशि के छठे भाव पर शनि और गुरु बृहस्पति की सीधी दृष्टि, उन्हें शुभ फल देने का कार्य करेगी। इसके बाद जब शनि देव आपके नवम भाव को दृष्टि करेंगे तब विदेश जाकर उच्च शिक्षा ग्रहण करने का सोच रहे छात्रों को लाभ मिलने की संभावना बन सकेगी। इस वर्ष जनवरी, फरवरी, मार्च और अप्रैल के महीने आपके लिए काफी फ़ायदेमंद रहेंगे। वो जातक जो अभी तक बेरोजगार हैं, उन्हें इस दौरान रोज़गार के शुभ अवसर मिलने की संभावना है।


स्वास्थ्य

यह वर्ष आपकी सेहत के लिए थोड़ा प्रतिकूल रहेगा क्योंकि आपके द्वादश भाव में गुरु बृहस्पति और शनि का गोचर आपको स्वास्थ्य संबंधी परेशानी दे सकता है। इस कारण कुछ शारीरिक परेशानियों जैसे: पैरों में दर्द, गैस, एसिडिटी, जोड़ों का दर्द, अपच, सर्दी, खांसी, आदि से भी आपको दो-चार होना पड़ सकता है। यदि आप पहले से ही किसी बीमारी से पीड़ित हैं, तो आपके लिए ये समय अधिक तनावपूर्ण सिद्ध होगा। कुछ जातक इस पूरे ही वर्ष तंत्रिका या पाचन समस्याओं से पीड़ित हो सकते हैं। परंतु ये परेशानी भी गंभीर या लंबे समय के लिए आपके जीवन को प्रभावित नहीं करेंगी। ऐसे में आपको इस पूरे ही वर्ष अधिक मसालेदार भोजन का परहेज करने की हिदायत दी जाती है। यूं तो इस वर्ष कई विभिन्न ग्रहों का गोचर आपके स्वास्थ्य को प्रभावित करेगा, लेकिन मंगल देव आपको इस वर्ष उन सभी से सफलतापूर्वक लड़ने में मदद करेंगे।


ज्योतिष उपाय

गाय को रोटी खिलाएं और हर शनिवार पीपल के वृक्ष को जल चढ़ाएं। मंगलवार के दिन भगवान हनुमान को लाल चोला चढ़ाएं और हनुमान चालीसा का पाठ करें। शनिवार के दिन चींटियों को आटा खिलाएं।